प्रदेश की सबसे बड़ी आर्द्रभूमि को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा: मनोहरलाल

punjabkesari.in Monday, Aug 16, 2021 - 08:56 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी): उपेक्षा के दौर से गुजर रहे भिंडावास पक्षी विहार को और अधिक सुविधाओं के साथ सुंदर पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। इसका सर्वांगीण विकास सुनिश्चित करने के लिए विभागीय अध्ययन भी कराया जाएगा। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने यहां अभयारण्य का दौरा करने के बाद झील, प्राकृतिक चेतना केंद्र और अभयारण्य में स्थापित वॉच टावर का भी दौरा किया।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा था कि पर्यटन के क्षेत्र में अभयारण्य की विशेष पहचान होगी। प्रदेश की सबसे बड़ी आद्र्रभूमि को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा, वहीं झील में देशी-विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए और सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। क्षेत्र के युवाओं को अभयारण्य में आने वाले पर्यटकों को गाइड के रूप में अपनी सेवाएं देने के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। जिला प्रशासन उन्हें तीन महीने का विशेष प्रशिक्षण और पुरस्कार प्रमाण पत्र प्रदान करेगा।

मनोहरलाल ने कहा, 'मैंने भिंडावास पक्षी अभयारण्य के बारे में बहुत कुछ सुना था लेकिन पहली बार इस जगह का दौरा किया। यह पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है, क्योंकि हर साल सितंबर से मार्च तक दुनिया भर से बड़ी संख्या में प्रवासी पक्षी यहां आते हैं। अभयारण्य में पर्यटकों को प्रदान की जाने वाली अतिरिक्त सुविधाओं में रात्रि प्रवास के लिए शिविर की व्यवस्था, झील का सौंदर्यीकरण और पक्षियों और वन्यजीवों के लिए एक औषधालय शामिल होगा। जल्द ही डिस्पेंसरी में एक सहायक की नियुक्ति की जाएगी।'

उन्होंने कहा, ' इसके अलावा, गुरुग्राम में सुल्तानपुर पक्षी अभयारण्य के डॉक्टर ऑनलाइन उपलब्ध होंगे। दिल्ली में जैन समुदाय द्वारा स्थापित वन्यजीवों के लिए अस्पताल से भी सहायता ली जाएगी।'


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static