पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेश युगों-युगों से मानवता को दिखा रहे ज्ञान और शांति का मार्ग : बंडारू दतात्रेय

punjabkesari.in Wednesday, Dec 15, 2021 - 10:27 AM (IST)

कुरुक्षेत्र : हरियाणा के राज्यपाल बंडारू दतात्रेय ने कहा कि धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर 5158 वर्ष पूर्व भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को गीता के उपदेश देकर कर्म करने का संदेश दिया। इस धरा पर दिए गए पवित्र ग्रंथ गीता के उपदेश युगों-युगों से मानवता को ज्ञान और शांति का मार्ग दिखा रहे हैं। गीता ने मानवता को जीवन जीने का सार और विश्व को शांति सद्भावना का संदेश देने का भी दिया है। इसलिए आज प्रत्येक नागरिक को गीता के उपदेशों को अपने जीवन में धारण करना चाहिए।

अहम पहलू यह है कि राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय और केंद्रीय मंत्री जी. किशन रैड्डी बच्चों के गीता पाठ से इतने प्रभावित हुए कि वे मिलने के लिए उनके बीच पहुंच गए। राज्यपाल मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव 2021 मेें कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड और शिक्षा विभाग के तत्वावधान में आयोजित वैश्विक गीता पाठ कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। 

इससे पहले राज्यपाल बंडारू दतात्रेय, केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री जी. किशन रेड्डïी, गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज, विधायक सुभाष सुधा, आर.एस.एस. के प्रचारक किशोर कांत, उपायुक्त मुकुल कुमार, एन.जैड.सी.सी. की निदेशिका दीपिका पोखरान, पुलिस अधीक्षक डा. अंशु सिंगला, ए.डी.सी. अखिल पिलानी, के.डी.बी. के मानद सचिव मदन मोहन छाबड़ा, के.डी.बी. सी.ई.ओ. अनुभव मैहता, एस.डी.एम. नरेंद्र पाल मलिक ने गीता पूजन और दीपशिखा प्रज्वलित कर विधिवत रूप से गीता जयंती के पावन पर्व पर वैश्विक गीता पाठ कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस पावन धरा पर कुरुक्षेत्र के 15 विद्यालयों के 1155 विद्यार्थियों ने निर्धारित समयानुसार वैश्विक गीता पाठ में पवित्र ग्रंथ गीता के 18 अध्यायों के 18 श्लोकों का उच्चारण किया। उन्होंने जैसे ही वैश्विक गीता पाठ शुरू किया उसी समय हरियाणा के सभी जिलों के राजकीय और निजी स्कूलों के 55 हजार से ज्यादा विद्यार्थी, विभिन्न देशों के लोग ऑनलाइन प्रणाली से जुड़े और सभी ने एक सुर में विश्व शांति के लिए वैश्विक गीता पाठ किया।   जी. किशन रैड्डी ने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रयासों से इस महोत्सव को अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव का बड़ा दर्जा मिला । गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद के प्रयासों से अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव की पहचान विदेशों में भी हुई। उन्होंने कहा कि भारत फिर से विश्व गुरु बनने की तरफ आगे बढ़ रहा है। 

स्वामी ज्ञानानंद ने कहा कि राज्यपाल दतात्रेय और मुख्यमंत्री मनोहर लाल के प्रयासों से गीता जयंती को अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव का स्वरूप मिला। इस वैश्विक गीता पाठ का संदेश पूरे विश्व में जाएग। विधायक सुभाष सुधा ने मेहमानों का आभार और प्रदेश वासियों को गीता जयंती की बधाई देते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव के दौरान वैश्विक गीता पाठ के साथ 55 हजार विद्यार्थियों के अलावा विदेशों का वर्चुअल रूप से जुडऩा अपने आप में एक ऐतिहासिक क्षण है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static