सूर्यग्रहण मेले को मात्र 5 दिन शेष : सड़क मुरम्मत का काम अधूरा

12/21/2019 1:20:02 PM

कुरुक्षेत्र (धमीजा) : सूर्यग्रहण मेले को मात्र 5 दिन रह गए हैं लेकिन सड़क की मुरम्मत का कार्य अभी बाकी है। पिपली से अम्बेदकर चौक तक सड़क की मुरम्मत का कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है, जिस कारण लोगों को आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। रेल ओवरब्रिज पर करीब एक घंटे तक टै्रफिक जाम रहा। वाहन चालकों को साधु मंडी की ओर टर्न करना पड़ा लेकिन कहीं भी कोई पुलिस एवं टै्रफिक कर्मचारी तैनात नहीं किए गए जिस कारण अव्यवस्था का माहौल रहा। वहीं, सूर्यग्रहण मेले के दौरान ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रखने व पर्यटकों की सुविधा के लिए शहर के बाहर पूरे जिले में 16 जगहों पर पुलिस नाके लगाएं जाएंगे।

जिनमें टी-प्वाइंट गांव जोगना खेड़ा नजदीक बस शैल्टर जोगनाखेड़ा, टी-प्वाइंट सारसा के.के.आर.-पी.डब्ल्यू.डी. रोड, टी-प्वाइंट बाण गंगा गांव दयालपुर की तरफ नजदीक पार्किंग, गांव मलिकपुर एन.एच.-65 पी.डब्ल्यू.ए.-अम्बाला रोड, पिहोवा बाईपास रोड अंडरब्रिज एन.एच.-65 के दोनों तरफ, ढांड बाईपास रोड अंडर न्यू ब्रिज एन.एच.-65, इंद्री चौक लाडवा, मथाना बस स्टैंड पिपली-लाडवा रोड, पीर बाबा मोड़ लाडवा की तरफ बाबैन-मुस्ताफाबाद रोड पर, सुनारियां चौक बाबैन, टी-प्वाइंट बोडी की तरफ गांव कड़ामी और लाडवा (उमरी-इन्द्री रोड), टी-प्वाइंट गांव किरमच की तरफ दक्षिण की तरफ गांव जाम्बा, टी-प्वाइंट सलपानी चौक झांसा रोड, एस.वाई.एल. ब्रिज नजदीक बाबा मारकंडा ब्रिज की तरफ इस्माईलाबाद, ब्रिज एन.एच.-65 बाईपास इस्माईलाबाद की तरफ झांसा, गांव अमीन की तरफ गांव खेड़ी रामनगर शामिल है।  

26 दिसम्बर को सूर्यग्रहण मेले में लगभग 10 से 15 लाख श्रद्धालु सुबह सवा 8 बजे से 10: 55 तक ब्रहमसरोवर व सन्निहित सरोवर में स्नान व पूजा-अर्चना करेंगे। इस दौरान प्रशासन की तरफ से अधिकारियों को वॉकी-टॉकी उपलब्ध करवाएं जाएंगे। यह वॉकी-टॉकी 20 से ज्यादा सूचना केन्द्रों व हैल्प डैस्क भी उपलब्ध रहेंगे। सूर्यग्रहण मेले में व्यवस्था बनाए रखने के लिए 20 सैक्टरों के लिए सैक्टर मैजिस्ट्रेट व सैक्टर अधिकारी की नियुक्ति कर दी गई है।

मेले में लोगों की सुविधा के लिए 20 हैल्प डैस्क और सूचना केन्द्र बनाए जाएंगे। प्रशासन की तरफ से ब्रह्मसरोवर की 700 सदरियों, तिरुपति बालाजी मंदिर के पास मेला ग्राऊंड में 20 हजार लोगों के ठहरने की व्यवस्था, धर्मशालाओं में ठहरने की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और पर्यटन सूचना केन्द्र पर रिसैप्शन काऊंटर स्थापित किए जाएंगे। प्रशासन की तरफ से भंडारों की जगह तय कर दी गई है तथा 24 दिसम्बर को सुबह 10 बजे मेला ग्राऊंड में एकत्रित होंगे और पायलट रिहर्सल होगी।


Isha

Related News