सरकारी अस्पताल में 5 दिन के नवजात की मौत, परिजनों ने डॉक्टरों पर लगाया लापरवाही का आरोप

punjabkesari.in Wednesday, Jun 29, 2022 - 08:56 AM (IST)

यमुनानगर(सुरेंद्र मेहता): यमुनानगर सिविल अस्पताल में दाखिल 5 दिन के नवजात की मौत हो गई। परिजनों ने इस मामले में डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। बताया जा रहा है कि चांदपुर निवासी 19 वर्षीय महिला ने 2 बच्चों को जन्म दिया। जो लड़का और लड़की थे। इन दोनों बच्चों का वजन कम था जिसके चलते उन्हें यमुनानगर सिविल अस्पताल के निक्कू वार्ड में दाखिल किया गया। जहां उनमें से एक लड़के की मौत हो गई। इस पर महिला के परिजनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया। वही यमुनानगर  के सिविल सर्जन डॉ मंजीत सिंह का कहना है कि दोनों बच्चे अंडरवेट थे। उनके लिए सभी तरह के इलाज के बंदोबस्त थे। उनका इलाज चल रहा था। 1 बच्चे में खून की भी काफी कमी थी। इलाज के दौरान ही एक बच्चे की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि इस वार्ड में 24 घंटे डॉक्टरों व नर्स का प्रबंध रहता है। हर बच्चे पर ध्यान रखा जाता है। उन्होंने कहा कि इलाज में किसी तरह की कोई लापरवाही नहीं हुई।
 
सिविल सर्जन डॉ मंजीत सिंह ने बताया कि बच्चे की हालत ठीक नहीं थी बच्चे की तबीयत और ज्यादा बिगड़ने पर वहीं मौजूद बच्चे की दादी को इसके बारे में बताया गया और उसे पीजीआई चंडीगढ़ रेफर करने की बारे में जानकारी दी गई। लेकिन उसके कुछ बाद ही बच्चे की मौत हो गई। उन्होंने कहा कि इसमें किसी तरह की डॉक्टर की लापरवाही नहीं है। वास्तव में महिला की 18 साल की उम्र में शादी कर दी गई। उसने जुड़वा बच्चे को जन्म दिया इस दौरान महिला ने किसी तरह का कोई चेकअप भी नहीं करवाया।
 
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static