5 गांवों को जोड़ने वाली सड़क को बंद करने पर फूटा ग्रामीणों का गुस्सा, धरना देकर जताया रोष

punjabkesari.in Monday, May 31, 2021 - 11:42 AM (IST)

ढांड (दीपक शर्मा): गांव पबनावा से ढांड को जोड़ने वाली सड़क को निर्माणाधीन नेशनल हाई-वे 152-डी के निर्माण के दौरान निर्माण कार्य में लगी कंपनी द्वारा स्थाई रूप से बंद करने के विरोध में भाकियू के प्रदेश महासचिव भूरा राम पबनावा के नेतृत्व में सैंकड़ों ग्रामीणों ने सडक़ पर मिट्टी डालने के कार्य को बंद करवाकर उसके ऊपर ही टेंट लगाकर अनिश्चित कालीन धरना शुरू कर दिया। 

इस दौरान मौजूद ग्रामीणों ने सरकार व निर्माण कार्य में लगी कंपनी के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर प्रदर्शन किया। भाकियू प्रदेश महासचिव भूरा राम पबनावा ने कड़े शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि निर्माण कार्य में लगी कंपनी को जल्द से जल्द सडक़ से मिट्टी उठाकर रास्ता खोल दें नहीं तो दो दिन बाद ग्रामीण स्वयं सड़क पर डाली मिट्टी को उठाकर ले जाएंगे। ग्रामीणों ने सड़क बंद करने की शिकायत दूरभाष के माध्यम से हलका विधायक रणधीर सिंह गोलन को भी दी जिस पर विधायक ने कहा कि वे 1 घंटे के अंदर धरनास्थल पर आकर ही आपकी सम्स्या को जानेंगे। 

धरनास्थल पर करीब 1 घंटे बाद हल्का विधायक एवं पर्यटन विभाग के चैयरमैन रणधीर सिंह गोलन गांव पबनावा में धरनास्थल पर ग्रामीणों के बीच पहुंचे ओर उनकी समस्या को जायज मानते हुए निर्माण कंपनी के अधिकारियों से मौके पर बातचीत कर इस समस्या का समाधान कर सडक़ खोलने के लिए कहा।

आरोप- निर्माण कंपनी द्वारा ढांड से पबनावा सहित 5 गांवों को जोड़ने वाली सडक़ पर मिट्टी डालकर रास्ता बंद किया जा रहा है, जिसको ग्रामीणों एकत्रित होकर रोक दिया है। ग्रामीणों का कहना है कि यह रास्ता इस्तेमाल के समय से है और अनेकों गांवों को आपस में जोड़ने का काम करता है। अगर रास्ते पर मिट्टी डालकर उसे बंद कर दिया गया तो ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। भाकियू प्रदेश महासचिव भूराराम ने बताया कि रास्ते को मिट्टी डालकर बंद करने की बजाए यहां पुल बनाया जाए।

समस्या के हल के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखा जाऐगा: रणधीर गोलन
ग्रामीण के बीच धरनास्थल पर पहुंचे हलका विधायक रणधीर सिंह गोलन ने कहा कि वे ग्रामीणों के साथ है और इस समस्या के समाधान के लिए केंद्र सरकार को पत्र भी लिखा है। उन्होंने बताया कि नैशनल हाई-वे के अधिकारियों ने बताया कि ग्रामीणों को हम साइड से डबल रास्ता दे रहे हैं, लेकिन मौका देखने के बाद जहां से साइड को रास्ता जो दे रहे उस पर दुघर्टना का खतरा है। जब अन्य सड़कों पर पुल बन रहे हैं तो यहां कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। ग्रामीणों की जायज मांग इनका हक बनता है कि सडक़ बंद नहीं होनी चाहिए और इस पर पुल बनना चाहिए।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static