किसान आंदोलन की सफलता के लिए गुरुद्वारों में की अरदास, एसजीपीसी और अकाली दल का बड़ा ऐलान

punjabkesari.in Monday, Dec 07, 2020 - 05:44 PM (IST)

जींद/कुरुक्षेत्र (अनिल कुमार/रणदीप): नए कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन की सफलता के लिए (एसजीपीसी) शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी की तरफ से सभी गुरुद्वारों में सोमवार को अरदास की गई। एसजीपीसी हरियाणा के कार्यकारी सदस्य तेजा सिंह कमालपुर, ऑल इंडिया गंथी जगमेल सिंह छाजला ने किसानों के जत्थे के साथ जींद के बड़े गुरुद्वारा में छठी पातशाही में सुखमणि साहब का पाठ व कीर्तन करके साथ संगत के साथ अरदास की। 

PunjabKesari, पोीबोलो

इस दौरान तेजा सिंह ने कहा कि जो कृषि कानून केंद्र सरकार लाई है, वे किसान विरोधी हैं। इसके खिलाफ किसान आंदोलन कर रहे हैं। ये आंदोलन लंबा चलेगा और वे किसानों के लिए कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हैं।  इसलिए पीछे नहीं हटेंगे। सरकार तीनों कृषि कानूनों को वापस ले।

PunjabKesari, haryana

इसके साथ कुरुक्षेत्र के ऐतिहासिक गुरुद्वारा छठी पातशाही में सिख संगत ने सुखमणि साहिब का पाठ व कीर्तन कर किसान आंदोलन के लिए अरदास की। इस अवसर पर साध संगत ने देश में अमन शांति, भाईचारा, अखण्डता और दिल्ली में किसान जत्थे बंदियों द्वारा किए जा रहे आंदोलन की कामयाबी के लिए विशेष अरदास की। इस मौके पर एसजीपीसी और शिरोमणि अकाली दल ने संयुक्त रूप से 8 दिसंबर को भारत बंद में सक्रिय भूमिका निभाने का ऐलान किया। एसजीपीसी सदस्य सरदार हरभजन सिंह मसाना ने कहा कि एसजीपीसी किसान जत्थेबंदियो के साथ है, लंगर समेत रहने खाने की व्यवस्था का मोर्चा कमेटी संभाल रही है। 

PunjabKesari, haryana

इस अवसर पर अकाली दल महिला हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष बीबी रविन्द्र कौर अजराना ने कहा कि महिला शक्ति की भूमिका इस आंदोलन की कामयाबी का आधार बनेगी, महिलाएं मोर्चे पर डटी हैं। उन्होंने कहा कि महिलाएं किसानों के भारत बंद में भी निर्णायक भूमिका अदा करेंगी। शिरोमणि अकाली दल हरियाणा प्रदेश प्रवक्ता कंवलजीत सिंह अजराना ने कहा कि सरकार की मंशा ठीक नहीं है, सरकार धर्म और जाति के नाम पर आंदोलन को भटकाना चाहती है। अकाली दल भारत बंद में सक्रिय भूमिका अदा करेगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

vinod kumar

Related News

Recommended News

static