विदेशी युवतियों के बोगस फेसबुक एकाउंट से आई फ्रेंड रिक्वेस्ट से हो जाएं सावधान, लग सकता है चूना

7/25/2020 9:40:48 PM

चंडीगढ़ (धरणी): आपको अगर किसी विदेशी युवती के बोगस फेसबुक एकाउंट से फ्रेंड रिक्वेस्ट आए, तो आप सावधान हो जाएं। ठगों का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चल रहा गैंग आपको अपना शिकार बना सकता है। हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ के एक दर्जन से ज्यादा लोग इनके जाल में फंसकर लाखों रूपये लुटवा चुके हैं।

लोगों को ऐसे बनाते हैं शिकार
इस गिरोह द्वारा सबसे पहले फेसबुक अकाउंट पर विदेशी महिला के नाम से आई.डी. बनाई जाती है। जिनमें कथित विदेशी महिलाओं को अमीर यूरोपीय मुल्क का दिखाया जाता है। जिस पर बेहद खूबसूरत विदेशी महिला की तस्वीर लगाकर तमाम आईडी धारकों पर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी जाती है। बहुत से लोग इन विदेशी महिलाओं की तस्वीरों की ओर आकर्षित होकर इनकी रिक्वेस्ट कबूल कर लेते हैं। वहीं से इन लुटेरों का खेल शुरू हो जाता है।

फेसबुक मेसेंजर पर बात कर यह ठग उन्हें व्हाट्सअप से बात करने के लिए फोन नम्बर भेजते हैं। 15 से 20 दिन तक व्हाट्सअप पर बात कर विश्वास जीता जाता है। जब लोगों को यह विश्वास हो जाता है कि यह महिला उनसे सचमुच प्यार करने लगी है। फिर इन ठगों द्वारा सरप्राइज गिफ्ट भेजने के नाम पर घर का पता और आईडी मांगी जाती है। सरप्राइज गिफ्ट और खूबसूरत महिला के प्यार के लालच में अक्सर लोग आईडी भी भेज देते हैं और घर का पता भी।

इसके बाद व्हाट्सअप पर एक बोगस रसीद इंटरनेशनल कोरियर कम्पनी की भेजी जाती है। साथ ही व्हाट्सअप पर गोल्ड, लेपटाप, मोबाइल व अनेको गिफ्ट की फोटो भेज कर बताया जाता है कि सरप्राइज गिफ्ट उन्हें भेज दिया गया है। केवल उन्हें तय तिथि तक कस्टम ड्यूटी का भुगतान कर गिफ्ट छुड़वाने है।  उसके बाद निर्धारित तिथि पर उन्हें फोन कर सामान लेने और करीब एक से डेढ़ लाख की कस्टम ड्यूटी की मांग की जाती है। कीमती सामान के लालच में अक्सर लोग पेमेन्ट के लिए राजी हो जाते हैं। उनके शहर में एक स्थान सामान रिसीव करने के लिए निश्चित कर लिया जाता है। वहां इस गिरोह का एक सदस्य सामान लेकर पहुंचता है और पेमेन्ट लेने के बाद खूबसूरत पैकिंग सौंप दी जाती है। 

घर जाकर जब पैंकिग खोली जाती है तो अन्दर से कचरा निकलता है। इस प्रकार से यह गिरोह दर्जन भर लोगों को शिकार बना चुका है। जिसके बाद अगर पुलिस में शिकायत दी भी जाए तो फर्जी फोन नम्बर के साथ साथ दी गई सभी जानकारियां भी बिल्कुल फर्जी निकलती हैं। इस प्रकार के मामले साइबर क्राइम पुलिस के लिए भी सिरदर्द बने हैं। इस प्रकार से यह गिरोह देश में पूरी तरह से सक्रिय है। अगर जल्द ही लोग जागरूक न हुए या प्रशासन द्वारा इनके खिलाफ सख्त कदम न उठाए तो आने वाले समय में इस प्रकार के मामलों में बहुत अधिक इजाफा होने की उम्मीद है।


Edited By

vinod kumar

Related News