उद्योग विहार में गिरी तीन मंजिला इमारत, दो मजदूरों की मौत, दो को बचाया गया

punjabkesari.in Monday, Oct 03, 2022 - 11:44 AM (IST)

गुड़गांव, (पवन कुमार सेठी): उद्योग विहार में सोमवार सुबह उस वक्त हड़कंप मच गया जब तीन मंजिला इमारत गिरने से चार मजदूर उसमें दब गए। बिल्डिंग को पिछले एक महीने से तोड़ने का कार्य किया जा रहा था। इस बिल्डिंग में केवल मजदूर रह रहे थे जो इसे तोड़ने का काम करते थे। सोमवार सुबह करीब सात बजे हादसा उस वक्त हुआ जब मजदूर खाना बना रहे थे। जब बिल्डिंग गिरने लगी तो मजदूरों में दहशत फैल गई और वह अभी यहां से बचकर निकल पाते कि उससे पहले ही बिल्डिंग मजदूरों पर गिर गई, जिसमें चार मजदूर दब गए। सूचना मिलते ही पुलिस व दमकल विभाग की टीमें मौके पर पहुंची जिन्होंने स्टेट डिजास्टर रेस्पॉन्स टीम को सूचना देकर मौके पर बुलवाया और रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। एसडीआरएफ के मौके पर आने से पहले ही दमकल ने दो मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

 

गुरुग्राम की खबरों के लिए इस लिंक https://www.facebook.com/KesariGurugram पर क्लिक करें।

 

दरअसल, उद्योग विहार फेज-1 के प्लॉट नंबर 257 की इस फैक्ट्री को काफी समय पहले बंद कर दिया गया था। इसे तोड़कर नया बनाया जाना था। ऐसे में पिछले एक महीने से यहां तोडफोड़ के लिए मजदूर लगाए गए थे। जब फैक्ट्री की इमारत को तोड़ना शुरू किया गया तो दूसरी मंजिल का मलबा पहली मंजिल पर आ गया और दूसरी मंजिल को तोड़ने से यह सारा मलबा पहली मंजिल की छत पर आ गया जिसके कारण लैंटर पर अधिक जोर हाे गया। इस जोर के कारण सोमवार सुबह बिल्डिंग भरभरा कर गिर गई। और मजदूर इसके नीचे दब गए।

 

मौके पर पहुंची रेस्क्यू टीम ने यहां मलबे को हटाकर मजदूरों को बाहर निकाला। शुरुआत में निकले दोनों मजदूर घायल थे जिन्हें अस्पताल में इलाज के लिए भेज दिया गया है। जबकि बाद में निकले दोनों मजदूरों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मलबे में चार मजदूर थे। रेस्क्यू ऑपरेशन करीब तीन घंटे तक चला। मलबे को सावधानी से हटाया जा रहा है ताकि नीचे कोई मजदूर न दबा हो।

 

घटना की सूचना मिलते ही जिला उपायुक्त निशांत यादव भी मौके पर पहुंच गए जिन्होंने मामले की जांच के लिए एक कमेटी बना दी है। इसके साथ ही श्रम विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वह घायल मजदूरों व मृतक मजदूरों के परिजनों को नियमानुसार मुआवजे का भुगतान करें। उन्होंने कहा कि जांच के लिए जो कमेटी बनाई गई है उसकी रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 

गुड़गांव में बिल्डिंग गिरने की यह कोई पहली घटना नहीं है। बल्कि इससे पहले गांव उल्लावास में भी एक बिल्डिंग गिर गई थी जिसमें छह लोगों की मौत हो गई थी। तीन दिन तक चले रेस्कयू ऑपरेशन के बाद जिला उपायुक्त ने सख्ती दिखाते हुए ऐसी मौत वाली बिल्डिंगों की पहचान करने के निर्देश दिए थे ताकि उन पर कार्रवाई करते हुए उन्हें खाली कराया जा सके, लेकिन यह आदेश महज दिखावा बनकर रह गए हैं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pawan Kumar Sethi

Related News

Recommended News

static