टेंडर आवंटन के खेल में परिषद को लग रहा करोड़ों का चूना, चंद ठेकेदारों को दिया जा रहा फायदा

10/22/2020 6:38:26 PM

बहादुरगढ़ (प्रवीण धनखड़): बहादुरगढ़ नगर परिषद भ्रष्टाचार के मामले में पूरे हरियाणा में प्रसिद्ध हो चुकी है। यहां सफाई के नाम पर, स्ट्रीट लाईट के नाम पर तो कभी मैस्टिक के नाम पर घोटालों पर घोटाले सामने आ चुके हैं। अब एक नए तरह का गोलमाल सामने आया है, जिसमें ठेकेदार करोड़ों के वारे न्यारे कर रहे हैं। 

दरअसल नगर परिषद  सुनियोजित तरीके से अपने चहेते ठेकेदारों को निर्धारित रेट से 15 से 30 प्रतिशत तक ज्यादा रेट में टैंडर अलॉट कर रही है। नगर पार्षद नीना राठी और पार्षद प्रतिनिधी सुरेन्द्र चुघ ने पत्रकार वार्ता कर आरोप लगाया कि रेलवे पार्क का टैंडर देने में ही नगर परिषद को 70 लाख का चूना लग गया है। जो टैंडर 2 करोड़ 61 लाख 40 हजार का लगाया गया वही टैंडर ठेकेदार को 3 करोड़ 48 लाख 49 हजार में अलॉट कर दिया।

भाजपा पार्षदों ने आरोप लगाते हुए बताया कि हाई रेट के इस खेल में पार्क में टैंडर में तीन बिड आई। एक बिडर का टैंडर रद्दकर दिया गया। जो बाकि दो बिडर यानि ठेका फर्म बची उनमें से एलएमके के रेट कम थे, इसलिए उसे ठेका अलॉट कर दिया। एलएमके का एमओयू पार्वती एंटरप्राईजेज के साथ है। पार्वती एंटरप्राईजेज और दूसरे नम्बर पर रही फर्म इंड सैनिटेशन सॉल्यूशन का डायरेक्टर कृष्ण कुमार एक ही व्यक्ति है। यानि ये साफ है कि एक ही ठेकेदार की दो फर्म पहले और दूसरे नम्बर की बिडर बनी और जो इनके कम्पीटिशन में थी उसका टैंडर रद्द कर दिया गया।

निर्धारित रेट से ज्यादा रेट पर टैंडर अलॉट होने का ये कोई अकेला मामला नहीं है। गली और नालों के दर्जन भर से ज्यादा ऐसे ही टैंडर सामने आ चुके हैं। लेकिन बावजूद इसके एक्सईएन नवीन धनखड़ कहते हैं कि सभी टैंडर नियमों के हिसाब से अलॉट किए गये हैं। अगर कोई कागजों की गड़बड़ है तो जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

नगर परिषद में भ्रष्टाचार के आरोप लगाने वाले पार्षद भाजपा के हैं और कहा ये भी जाता है कि कांग्रेस की चेयरपर्सन शीला राठी को भाजपा के कुछ पार्षद सपोर्ट भी करते हैं। भ्रष्टाचार के बढ़ते मामलों के चलते अब उच्चस्तरीय जांच की मांग उठ रही है। आरोप  ये भी लगा है कि महिला चेयरपर्सन शीला राठी के अधिकारों का इस्तेमाल उनके बेटे संदीप राठी करते हैं।


Shivam

Related News