5 बहनों के इकलौते भाई के कातिल 1 माह बाद भी पकड़ से बाहर, विधायक पहुंचे CM व गृह मंत्री के दरबार

10/22/2020 7:37:20 PM

भिवानी (अशोक): भिवानी के लक्ष्मीनगर निवासी शूटिंग खिलाड़ी मनोज यादव की कुछ बदमाशों ने गत 18 सितम्बर को हत्या कर दी थी। हत्यारों ने इतनी बेहरमी से मनोज की हत्या की थी, उसकी पहचान कर पाना ही मुश्किल था। शरीर के कई हिस्से काटने के बाद उसकी लाश को जला दिया था। इस घटना को 1 माह बीत गया है, लेकिन अभी तक मनोज के हत्यारों का कुछ पता नहीं चल पाया है। पुलिस के हाथ आज भी खाली है। इसी के चलते मंगलवार को भिवानी के विद्यायक घनश्याम सर्राफ सीएम व गृह मंत्री के दरबार में इस मामले को लेकर पहुंचे, इस पर मुख्यमंत्री व गृह मंत्री ने भिवानी में पुलिस अधीक्षक को तुरंत आरोपियों को पकड़ने के आदेश दिए।

PunjabKesari, haryana

गौरतलब है कि इस हत्या के बाद से 5 बहनों के इकलौते भाई नेशनल खिलाड़ी मनोज यादव के हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर कई सामाजिक संगठनों ने शहर में प्रदर्शन शुरू किया हुआ है। संगठनों ने अब 23 अक्टूबर को बड़े स्तर पर नेहरू पार्क में पंचायत करने का मन बना रखा है। मनोज भिवानी में ही शूटिंग की द्रोणाचार्य के नाम से अकादमी चलाता था।

परिजन रामानंद के अनुसार मनोज यादव 18 सितम्बर को रात को अपनी मोटरसाइकिल पर सवार होकर निकला था। परिजनों ने फोन किया तो उन्हें उसने बताया की वह खाना आज बहार ही खाएगा। रात काफी हो गई, लेकिन मनोज घर नहीं लौटा था। इस पर परिजनों ने फोन किए, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। सुबह परिजन पुलिस के पास पहुंचे तो पुलिस ने कहा कि 24 घंटे से पहले वे इस मामले कुछ नहीं कर सकते। 

परिजन उसकी तलाश में घूमते रहे, लेकिन मनोज का कहीं कुछ पता नहीं चला। अचानक कुछ देर बाद पुलिस को एक अधजली लाश मिली। उसके शरीर के कई अंग भी काटे हुए थे। पुलिस ने लाश की शिनाख्त के लिए मनोज के परिजनों को उद्योगिक क्षेत्र थाने बुलाया। परिजनों को भी लाश की शिनाख्त करने में समय लगा, आखिर उसकी बाजू पर लिखे नाम से उन्होंने उसे पहचान लिया। 

PunjabKesari, haryana

इस मामले को लेकर पुलिस पर ढिलाई के आरोप लग रहे थे। परिजन संगठनो के साथ मिलकर सड़कों पर हैं। इसी बीच भिवानी के विधायक घनश्याम सर्राफ से भी उन्होंने मुलाकात की, लेकिन आरोपी नहीं पकड़े गए। यहां तक कि जानकारी भी नहीं मिल पाई की हत्या की किसने। विधायक घनश्याम सर्राफ इस मामले को लेकर सोमवार को सीएम व गृह मंत्री दरबार मे पहुंच गए। जिस पर सीएम व गृह मंत्री ने तुरंत मामले में आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए आदेश दिए।

मामले को लेकर को विधायक घनश्याम सर्राफ पुलिस अधीक्षक सुमेर प्रताप सिंह व डीएसपी को लेकर पीड़ित के घर पहुंचे। विधायक ने  पीड़ित परिवार को भरोसा दिलाया कि इस मामले को लेकर उनकी सीएम मनोहर लाल व गृह मंत्री अनिल विज से बातचीत हुई है। उन्होंने पूरा मामला सीएम व गृह मंत्री के संज्ञान में डाल दिया है। सीएम ने एसपी को पीड़ित के घर पहुंचने व मामले के आरोपितों को शीघ्र गिरफ्तार करवाने के निर्देश दिए है। विधायक सर्राफ के अलावा एसपी व डीएसपी ने शीघ्र आरोपितों को गिरफ्तार करवाए जाने का आश्वासन दिया।  

इस बारे डीएसपी वीरेंद्र सिंह ने बताया कि मामले को लेकर पुलिस ने टीम बनाई हुई है। टीम काम कर रही है, जल्द ही आरोपी पकड़े जाएंगे। उन्होंने बताया कि अभी तक पुलिस को कोई क्लू नहीं मिला है। 6000 लोगों के मोबाइल की लोकेशन चेक की जा रही है। उन्होंने बताया कि वे इस मामले कि तह तक जाने के लिए प्रयासरत है। 

PunjabKesari, haryana

मृतक की बहन पूजा का कहना है कि मनोज उन 5 बहनों का इकलौता भाई था। उसकी किसी से दुश्मनी भी नहीं थी। उसे क्यों मौत के घाट उतार दिया गया, इस बात की जानकारी पुलिस आज तक नहीं लगा पाई है। उन्होंने कहा कि एसपी, डीएसपी व विधायक घनश्याम सर्राफ आज उनके आवास पर पहुंचे। उनसे मामले की जानकारी ली। साथ ही उन्होंने जो शीघ्र आरोपितों को गिरफ्तार करवाने का आश्वासन दिया है। उससे कुछ राहत मिली है, लेकिन सही राहत तब मिलेगी। जब आरोपित सलाखों के पीछे होंगे।  


vinod kumar

Related News