Assembly election 2019: पार्टियों बढऩे के बावजूद नहीं बढ़ी उम्मीदवारों की संख्या

10/9/2019 1:43:10 PM

डेस्क(संजय अरोड़ा): हरियाणा में इस बार 2009 एवं 2014 के विधानसभा चुनाव की तुलना में कम उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। 90 विधानसभा सीटों के लिए कुल 1,168 उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमाने उतरे हैं, जबकि 2009 में 1,222 व 2014  में 1,351 उम्मीदवार मैदान में थे। वहीं 2005 में कुल 983 उम्मीदवारों ने चुनाव लड़ा। इस प्रकार वर्ष 2009 व 2014 की तुलना में इस बार प्रदेश की 90 सीटों के चुनावी मैदान में पाॢटयों की संख्या बढऩे के बावजूद उम्मीदवारों की संख्या कम हुई है।

इस बार चुनावी मैदान में उतरे उम्मीदवारों के आंकड़ों के हिसाब से हिसार जिला में सर्वाधिक 118, जबकि पंचकूला जिला में सबसे कम 24 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। गौरतलब है कि इस बार भाजपा, कांग्रेस व इनैलो के अलावा जजपा, आप, बसपा व लोसुपा जैसे दल भी चुनावी मैदान में हैं। भाजपा, कांग्रेस व जजपा ने सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। 

इनैलो-शिरोमणि अकाली दल गठबंधन ने 86 सीटों पर उम्मीदवार घोषित किए हैं जबकि कुछ सीटों पर निर्दलीयों को समर्थन किया है। आप, बसपा व लोसुपा ने भी बड़ी संख्या में उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं तो हलोपा ने 5 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं। 1967 से अब तक हुए चुनावों में इस बार सबसे अधिक राजनीतिक दलों के चुनाव लडऩे के चलते यह संभावना जाहिर की जा रही थी कि उम्मीदवारों की संख्या इस बार सारे रिकॉर्ड तोड़ देगी,लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

पिछले चुनाव की तुलना में ही इस बार 183 उम्मीदवार कम चुनाव लड़ रहे हैं। चुनाव आयोग के पिछले आंकड़ों पर नजर डालें तो 2005 के चुनाव में 60 महिला एवं 923 पुरुष उम्मीदवार मैदान में थे। इसी तरह से 2009 के चुनाव में 1,153 पुरुष एवं 69 महिलाओं ने चुनाव लड़ा, जबकि 2014 के चुनाव में 1,235 पुरुष व 116 महिलाओं ने चुनाव लड़ा। 

कब कितने उम्मीदवार?

  • साल    उम्मीदवार
  • 1967    471
  • 1968    671
  • 1972    371
  • 1977    671
  • 1982    1095
  • 1987    1322
  • 1991     1885
  • 1996     1029
  • 2000     965
  • 2005     983
  • 2009     1222
  • 2014     1351
  • 2019     1168

Isha

Related News