नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में स्टेट्स जानने पहुंचे डीएनटी चेयरमैन के साथ उलझे डीएसपी

9/23/2020 4:58:34 PM

हांसी (संदीप): अनुसूचित जाति की नाबालिग किशोरी से दुष्कर्म जैसे गंभीर मामले में भी आरोपियों को पुलिस महीनों तक गिरफ्तार ना करे तो पुलिस की कार्यप्रणाली का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। हांसी की एक कॉलोनी में अनुसूचित जाति की नाबालिग किशोरी से सामुहिक दुष्कर्म के मामले में डीएसपी से स्टेट्स रिपोर्ट जानने पहुंचे डीएनटी चेयरमैन डॉ बलवान सिंह से ही उलझ गए। 

आरोप है कि परिजनों के साथ भी डीएसपी व उनके स्टाफ ने बदसलूकी की। जिसके बाद स्वजन भड़क गए व पुलिस के खिलाफ रेस्ट हाउस में आक्रोश व्यक्त किया। बता दें कि हांसी की एक कॉलोनी में कुछ दिन पहले में एक किशोरी के साथ सामुहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया था। 

मात्र 14 वर्षीय किशोरी के साथ कुछ एक नाबालिग व अन्य मिलकर कई महीनों से दुष्कर्म कर रहे थे। किशोरी के गर्भवती होने पर परिजनों को मामले का पता चला। जिसके बाद परिजनों ने पुलिस के समक्ष शिकयत दर्ज करवाई। पुलिस ने पोक्सो व अन्य करीब 8 धाराओं में मामला दर्ज किया था, लेकिन परिजनों का आरोप है कि पुलिस आरोपियो को गिरफ्तार नहीं कर रही है। 

इसी मामले में डीएनटी बोर्ड के चेयरमैन डॉ बलवान सिंह मंगलवार को मामले में जांच अधिकारी डीएसपी धर्मवीर के कार्यालय में परिजनों के साथ स्टेट्स जानने व आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग लेकर मिलने गए थे। डॉ बलवान सिंह का आरोप है कि जांच का स्टेट्स पूछते ही डीएसपी भड़क गए और गलत भाषा का इस्तेमाल करने लगे। डीएसपी ने अपने स्टाफ के सदस्यों को हमें दफ्तर से बाहर निकालने के लिए बोला। वहीं इस मामले में जब डीएसपी धर्मबीर सिंह से जानकारी लेनी चाही तो उन्होंने कुछ बोलने से मना कर दिया।


vinod kumar

Related News