विदेशी कंपनियों के डाटा सैंटर बनाने के लिए सरकार लेकर आएगी नई पॉलिसी : दुष्यंत चौटाला

2021-06-19T08:53:00.317

चंडीगढ़ : हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने बताया कि सरकार हरियाणा में निवेश एवं रोजगार बढ़ाने के लिए निरंतर नए-नए अवसर पैदा कर रही है। इस दिशा में सरकार ने एक और मजबूत कदम बढ़ाते हुए हरियाणा को ‘डाटा सैंटर हब’ के रूप में विकसित करने की योजना पर कार्य शुरू कर दिया है। उन्होंने बताया कि सरकार जल्द नई ‘डाटा सैंटर पॉलिसी’ लेकर आएगी और ताकि विदेशी कंपनियां प्रदेश में डाटा सैंटर खोलने के लिए आकर्षित हों।

उपमुख्यमंत्री जिनके पास उद्योग एवं वाणिज्य विभाग का प्रभार भी है ने वीडियो कांफ्रैंसिंग के माध्यम से बैठक करके कई बड़ी कंपनियों के प्रतिनिधियों से ‘डाटा सैंटर पॉलिसी’ के गठन के लिए सुझाव भी लिए। बैठक के बाद दुष्यंत ने बताया कि उद्योगों में डाटा सैंटर एक नया क्षेत्र है, इससे राज्य को निवेश एवं रोजगार के नए अवसर मिलेंगे। उन्होंने कहा कि नई डाटा सैंटर पॉलिसी बनने से फरीदाबाद, साइबर सिटी गुरुग्राम जैसे हरियाणा के बड़े शहरों में डाटा सैंटरों को और बढ़ावा 
मिलेगा। यही नहीं मुम्बई जैसे बड़े शहरों से भी डाटा सैंटरों को हरियाणा में लाने के लिए आकॢषत किया जाएगा। 

डाटा सैंटर पॉलिसी को लेकर कई बड़ी कंपनियों के लिए सुझाव
दुष्यंत ने बताया कि कई विदेशी कंपनियां भारत में अपना डाटा सैंटर बनाना चाहती हैं। सरकार राज्य को देश का एक बड़ा डाटा सैंटर के हब के रूप में विकसित करना चाहती है। इसके लिए प्रदेश सरकार नई पॉलिसी बना रही है, उसका ड्राफ्ट तैयार किया जा रहा है। इस नई पॉलिसी के लिए देश की जानी-मानी करीब डेढ़ दर्जन बड़ी कंपनियों के प्रतिनिधियों के सुझाव भी लिए गए हैं। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि जिस तेजी से विभाग द्वारा कार्य किया जा रहा है, उससे उन्हें उम्मीद है कि आगामी जुलाई माह में ‘डाटा सैंटर पॉलिसी’ तैयार हो जाएगी और उसके बाद इसको लागू कर दिया जाएगा।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Recommended News

static