तीन दिन बाद ही सरकार ने फैसला लिया वापस, इन कार्ड धारकों को नहीं मिलेगा सस्ता राशन

punjabkesari.in Sunday, Apr 12, 2020 - 01:20 PM (IST)

चंडीगढ़: हरियाणा में हरे राशन कार्ड धारकों (एपीएल) को सरकारी राशन डिपो से अब सस्ता राशन नहीं मिलेगा। घोषणा के तीन दिन बाद ही सरकार ने फैसला वापस ले लिया है। सरकार का मानना है कि गरीबी रेखा से ऊपर के लोग लॉकडाउन से पहले भी अन्य दुकानों से राशन की खरीद कर रहे थे और इस वक्त भी वे सक्षम हैं। लिहाजा, सरकार का ध्यान गरीब असहाय और जरूरतमंद लोगों पर ही रहेगा।

मुख्यमंत्री ने सात अप्रैल को घोषणा की थी कि अब प्रदेश के सरकारी राशन डिपो पर एपीएल राशन कार्डधारकों को भी डिपो पर गेहूं, चीनी और सरसों का तेल बाजार भाव से कम भाव पर उपलब्ध करवाया जाएगा। सरकार ने एपीएल कार्डधारकों के लिए राशन के रेट भी निर्धारित किए थे। एपीएल कार्डधारकों को राशन डिपो से चीनी 39 रुपये प्रति किलो, गेहूं 23.50 रुपये किलो और सरसों की तेल की एक बोतल 105 रुपये की निर्धारित की थी।

बाजार की अपेक्षा उक्त चीजों का यह रेट थोड़ा कम है। सरकार ने सभी राशन डिपो संचालकों को इस संदर्भ में तैयार रहने के भी निर्देश दिए थे। मगर सरकार के फैसले और उक्त चीजों के रेट को लेकर विपक्षी दलों ने सरकार पर निशाना साधना भी शुरू कर दिया। विपक्षी नेताओं का कहना था कि सरकार द्वारा तय किए गए रेट बाजार भाव के अपेक्षाकृत बहुत ज्यादा सस्ते नहीं है।

मंथन के बाद इन कारणों से वापस लिया फैसला
खैर, सरकार ने कुछ कारणों को लेकर अपने इन आदेश से यू-टर्न ले लिया है। विभागीय सूत्रों के अनुसार सरकार और अफसरों के स्तर पर मंथन में इस बात की चर्चा की गई कि लॉकडाउन में मुख्य फोकस गरीब जरूरतमंद और असहाय लोगों पर ही रखना उचित होगा।

इस मंथन में यह बात भी सामने आई कि एपीएल कार्ड धारक गरीबी रेखा से ऊपर वाला कोई भी व्यक्ति हो सकता है और इन्हें पहले भी कोई राशन सरकारी डिपो के माध्यम से नहीं मिलता था। ये लोग बाहर से ही राशन खरीद कर अपना गुजर-बसर करने में सक्षम है।

अब इस लॉकडाउन पीरियड में भी अभी तक एपीएल कार्ड धारक सभी लोग बाहर से ही राशन लेकर गुजारा कर रहे हैं। लिहाजा इन लोगों को राशन डिपो से सस्ता राशन देने की कुछ खास जरूरत नहीं दिख रही है। सरकार सिर्फ उन लोगों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराए, जिनके लिए लॉकडाउन में अपना गुजर-बसर करना मुश्किल हो रहा है।

सूत्रों के अनुसार सरकार घोषणा पर इस वक्त अपने विपक्षियों को इस पर राजनीति करने का मौका भी नहीं देना चाहती है। उधर, सरकार गरीबों असहाय और जरूरतमंद लोगों को राशन डिपो और ड्राई पैकेट के जरिये मुफ्त राशन वितरित करने में लगी हुई है। अब तो सर्वे के दौरान लोगों से यह भी पूछा जा रहा है कि उन्हें राशन सूखा चाहिए या तैयार भोजन। ऐसे लोगों को सरकार प्रति सप्ताह आर्थिक मदद भी कर रही है। लिहाजा सरकार ने इन्हीं जरूरतमंद लोगों पर अपना फोकस रहते हुए अपने 7 अप्रैल वाले फैसले को वापस ले लिया है।

3 महीने 27 लाख परिवारों को मिलेगा दोगुना राशन
हरियाणा सरकार ने अगले 3 महीनों तक यानी अप्रैल मई व जून में 27 लाख पात्र परिवारों जिनमें गुलाबी, पीले और ओपीएच (प्राथमिक परिवार) राशन कार्ड धारक शामिल हैं, को दोगुना राशन देने का फैसला किया है।

इसके लिए सभी राशन डिपो पर अतिरिक्त राशन की सप्लाई भी कर दी जाएगी। इस राशन में सिर्फ गेहूं आटे की ही अतिरिक्त सप्लाई की जाएगी। इसके अलावा राशन डिपो पर चीनी, दाल और सरसों के तेल के अलावा अब एक किलो नमक भी लाभार्थी परिवारों को मिलेगा।

इस संबंध में पीके दास, अतिरिक्त मुख्य सचिव खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग ने कहा कि सरकार ने एपीएल राशन कार्ड धारकों को सरकारी डिपो के जरिये सस्ता राशन देने की घोषणा को वापस ले लिया है। लॉकडाउन में सरकार की ओर से गरीब, असहाय और जरूरतमंदों को ही मुफ्त राशन और आर्थिक मदद उपलब्ध कराई जा रही है। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Edited By

vinod kumar

Related News

Recommended News

static