किसानों के समर्थन में उतरी खापें, राशन लेकर बॉर्डर रवाना हुए जत्थे

12/3/2020 5:41:07 PM

बहादुरगढ़/रोहतक/जींद (प्रवीण/दीपक/अनिल): तीन कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन सरकार के लिए गले की फांस बनता जा रहा है। किसानों के आंदोलन को हरियाणा की खापों का खुलकर समर्थन करना दस्तूर जारी है। वीरवार को रोहतक से हुड्डा, और झज्जर से धनखड़ खाप टिकरी बॉर्डर रवाना हुई। वहीं जींद जिले से बिनैण खाप व चहल खाप ने दिल्ली कूच किया। खाप नेताओं का कहना है कि वह किसानों के साथ हैं, तीन कृषि कानूनों को रद्द कराकर ही आंदोलन खत्म होगा। 

PunjabKesari, haryana

किसानों के साथ आंदोलन में कंधे से कंधा मिलाने के लिए हुड्डा खाप तैयार है, वीरवार को ढोल-बाजे के साथ रोहतक से खाप प्रतिनिधि टिकरी बॉर्डर के लिए रवाना हुए। हुड्डा खाप के नेताओं का कहना है कि मोदी सरकार झूठ पर झूठ बोल रही है। उन्होंने कहा कि तीनों काले कानूनों को जब तक सरकार वापस नहीं लेती, तब तक किसान बॉर्डर पर तैनात रहेगा। हुड्डा खाप के नेताओं का दावा है कि हुड्डा खाप के अधीन 54 गांव आते है और सभी गांवों के किसान आंदोलन में भाग लेंगे।

हुड्डा खाप प्रतिनिधि का कहना है कि प्रधानमंत्री मोदी किसानों को बहकाने का काम कर रहें है। लेकिन अब की बार किसान बहकावे में आने वाले नहीं हैं और इन तीन कृषि कानूनों को रद्द कराकर ही आंदोलन खत्म होगा। उन्होंने कहा कि जब तक आन्दोल जारी रहेगा तब तक हुड्डा खाप किसानों के साथ है

PunjabKesari, haryana

इसके साथ ही किसान आंदोलन में जान फूंकने के लिए झज्जर से धनखड़ खाप ने भी दिल्ली के टिकरी बॉर्डर का रुख किया। किसान आंदोलन को समर्थन देने के लिए धनखड़ खाप के 12 गांवों के किसान दिल्ली के टिकरी बॉर्डर के लिए निकले। इस दौरान धनखड़ खाप ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि मांगे नहीं मानी तो जल्द वह ढासा बॉर्डर को भी जाम करेंगे। खाप नेताओं ने कहा कि पंजाब के किसान भाइयों के साथ हरियाणा का किसान मजबूती से खड़ा है। तीन काले कानून हर हाल में वापस होने चाहिए। गौरतलब है कि झज्जर जिले के दिल्ली के साथ दो बॉर्डर लगते हैं। टिकरी बॉर्डर पर पहले से ही किसान पिछले 1 सप्ताह से लगातार धरने पर बैठे हुए हैं और आज धनखड़ खाप ने ढासा बॉर्डर को भी जाम करने का ऐलान कर दिया है।

तीन कृषि कानूनों के विरोध व किसानों के समर्थन में जींद से बिनैण खाप व चहल खाप ने दिल्ली कूच के लिए रवाना हुई। इस दौरान उन्होंने सराकर के खिलाफ विरोध में नारे लगाए और कहा कि जब तक सरकार तीनों कानून को वापस नहीं ले लेती वह दिल्ली से वापस नहीं लौटेंगे। 

PunjabKesari, haryana

बिनैण खाप के प्रतिनिधि ने कहा हम अपना राशन साथ में लेकर निकले हैं, चाहे कितने दिन लग जाए जब तक सरकार तीनों कानून वापस नहीं ले लेती, तब तक वह वापस नहीं लौटेंगे। वहीं चहल खाप प्रतिनिधि जयदीप चहल ने बताया कि हमने 30 नवंबर को मीटिंग कर और फिर जींद की जाट धर्मशाला में सर्वजातीय खाप की महापंचायत में फैसला लिया था कि हम किसानों के समर्थन में दिल्ली कूच करेंगे और सरकार से तीनों कानूनों को वापस लेने की मांग करेंगें।

उन्होंने कहा कि सरकार तानाशाही पर उतर आई है, उसे सरकार की मांगे मान लेनी चाहिए। खाप प्रतिनिधि ने कहा इन तीन कानूनों में एमएसपी देने की चौथी लाइन और जोड़ी जाए या फिर तीनो कानूनों को ही वापस ले लिया जाए। चहल खाप के प्रतिनिधि जयदीप चहल ने कहा जब तक सरकार संसद सत्र बुलाकर इन कानूनों को वापस नहीं ले लेती है तब तक वापिस नही लौटेंगें। इसके साथ उन्होंने हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के प्रति नाराजगी जताई। नेताओं ने कहा दुष्यंत चौटाला कहते कुछ हैं, करते कुछ हैं। 


vinod kumar

Related News