मनमानी कर रहे लैब संचालक, तय रेट से ज्यादा में की कोरोना जांच, हुई शिकायत

7/24/2021 8:56:14 AM

गुड़गांव:  तमाम नियमों व हिदायतों बाद भी अस्पताल व लैब संचालक अपनी मनमानी से बाज नही आ रहे। कोरोना काल में मरीजों से पैसा कमाने में उन्हे विभाग व जिला प्रशासन का भी खौंफ नही है।  ऐसे ही एक मामला फिर से जिले में आया है। जिसमें सेक्टर-15 पार्ट-1 स्थित निजी लैब के खिलाफ  एक व्यक्ति द्वारा शिकायत दी गई है। हालांकि ये शिकायत सोशल मीडिया पर प्रदेश के मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, जिला उपायुक्त को दी गई है। पीड़ित ने लैब द्वारा काटी गई पर्ची के साथ इसे शेयर किया है। पीड़ित का आरोप है कि लैब ने मरीज से कोरोना की आरटीपीसीआर जांच के लिए 450 रुपये वसूले हैं। जबकि सरकार ने इसके लिए 299 रुपये रेट गत दिनों ही निर्धारित किए हैं। ये शिकायत तरुण ठाकरान नाम के व्यक्ति ने ट्विटर पर दी शिकायत में लिखा है। 

तरूण के मुताबिक 22 जुलाई को सेक्टर-15 पार्ट-1 स्थित निजी लैब से उन्होंने कोरोना संक्रमण की जांच कराने के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट करवाया था। निजी लैब द्वारा आरटीपीसआर टेस्ट के लिए 450 रुपये फीस वसूली गई। उसकी रसीद भी उन्होंने अपने पोस्ट में सांझा की है। सरकार ने इससे कम रेट निर्धारित किए हुए हैं। बावजूद इसके निजी लैब मनमानी कर रहे हैं। इसकी जांच होनी चाहिए। वही सीएमओ डा. वीरेंद्र यादव ने बताया फिलहाल इसकी शिकायत उन्हे नही मिली है। लेकिन अगर ऐसा हुआ है तो शिकायत मिलने के बाद मामले की जांच की जाएगी। बता दें कि हाल में ही सरकार की ओर से आदेश जारी किए गए थे। जिसमें आरटीपीसआर जांच कराने के लिए यदि व्यक्ति लैब या अस्पताल में जाकर नमूना देता है। उससे लैब या अस्पताल 299 रुपये, जबकि यदि घर बुलाकर नमूने देता है तो उससे 499 रुपये से अधिक नहीं वसूल सकते है। बता दें कि इससे पूर्व भी जिले मेंं अस्पताल व लैब संचालकों की कई शिकायतें आ चुकी है। जिस पर स्वास्थ्य विभाग ने गंभीरता से संज्ञान भी लिया है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Recommended News

static