विधानसभा सत्र में विपक्ष पर बरसे मनोहर, कहा- ''निंदा करने की भाषा को रेजोल्यूशन नहीं बोलते''

11/5/2020 6:59:15 PM

चंडीगढ़ (धरणी): हरियाणा विधानसभा का सैनेडाईज्ड मानसून सत्र आज वीरवार से जारी है। विपक्ष लगातार सरकार को हर मुद्दे पर घेरा रहा है। किसानों के मुद्दों को लेकर विपक्ष चर्चा करना चाहता है, लेकिन स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता अनुमति प्रदान नहीं कर रहे हैं। सदन में तोशाम से विधायक किरण चौधरी और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा ने सरकार को जमकर घेरा। इस दौरान स्पीकर ने विपक्ष को समझाने का भरपूर प्रयास किया। उन्होंने कहा कि किसानों के मुद्दे पर कल सत्र में चर्चा की जाएगी, लेकिन नेता प्रतिपक्ष और किरण चौधरी किसानों के मुद्दों को लेकर अड़े रहे।

स्पीकर का कहना है कि हम केंद्र सरकार के खिलाफ नहीं जा सकते और बिल किसानों के हित में बताए जा रहे हैं। स्पीकर का कहना है कि चर्चा दोनों तरफ से होती है। वहीं नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि सरकार जब ये तीन कानून लेकर आई है तो चौथा कानून भी लेकर आए, जिसमें निर्धारित हो कि किसानों की फसल एमएसपी रेट पर खरीदी जाएगी। 

नेता प्रतिपक्ष के ऐसा कहने पर सीएम मनोहर लाल ने कांग्रेस को जमकर खरी-खोटी सुनाई। उन्होंने कहा कि इतने सालों बाद विपक्ष को एमएसपी की कैसे याद आई है? मनोहर लाल ने कहा कि सिर्फ किसानों को बरगलाने का काम विपक्ष द्वारा किया जा रहा है और अंशाति फैलाने के लिए किसानों को भड़काया जा रहा है। सीएम मनोहर लाल ने तीनों कृषि कानूनों को किसानों के हित में बताया।

किरण चौधरी ने विधानसभा में मॉनसून सत्र के दौरान कृषि बिलों पर रेजोल्यूशन पेश करने की बात की। किरण चौधरी द्वारा रेजोल्यूशन को लेकर स्पीकर ने कहा कि केंद्र द्वारा लाए गए कानूनों में हम कोई बदलाव नहीं कर सकते। इस पर किरण चौधरी ने कहा कि विधानसभा में कानून में बदलाव नहीं किया जा सकता, लेकिन रेजोल्यूशन पास करके संसद में भेजा जा सकता है।

जिस पर सीएम मनोहर ने किरण चौधरी पर तंज कसते हुए कहा कि निंदा करने की भाषा का रेजोल्यूशन नहीं कहते। उन्होंने कहा कि विपक्ष इसे कंडम करने के सिवाय कुछ नहीं कर रहा। केंद्र द्वारा लाए गए तीनों कानून किसानों के हित में हैं। सीएम ने कहा कि विपक्ष रेजोल्यूशन की तीन लाईन पढ़कर दिखाएं तो पता चलेगा कि उसमें सिर्फ निंदा की गई है और निंदा को रेजोल्यूशन नहीं बोलते।


Shivam

Related News