निर्मल यमुना की धारा को दूषित कर रहे खनन वाहन, ग्रामीणों ने की पुल बनाने की मांग

punjabkesari.in Monday, Mar 22, 2021 - 04:40 PM (IST)

यमुनानगर (सुमित ओबेरॉय): दुनिया भर में आज विश्व जल दिवस मनाया जा रहा है। इस विश्व जल दिवस पर हम आपको यमुना सेवा समिति से जुड़े ग्रामीणों के हौंसले की कहानी बता रहे हैं, कैसे ग्रामीणों ने कनालसी गांव से निकल रही यमुना नदी की स्वच्छ, सुंदर बना दिया और उसे जिंदा रखा। लेकिन आज उनका हौंसला कुछ पस्त हो रहा है क्योंकि खनन सामग्री के वाहन उनके प्रयासों को धूमिल कर रहे हैं। 

PunjabKesari, haryana

एक तरफ केंद्र सरकार नदियों को स्वच्छ बनाने के लिए करोड़ों रुपए खर्च रही है। दूसरी तरफ यमुनानगर में यमुना सेवा समिति के प्रयासों से स्वच्छ और निर्मल यमुना नदी की धारा दूषित हो रही है। दरअसल, कनालसी गांव से यमुना, सोम नदी और थपाना नदी का संगम होता है। यमुना सेवा समिति के प्रयासों से यहां से निकल रही यमुना का जल इतना स्वच्छ और निर्मल है कि नदी से आरपार सब शीशे की तरह नजर आता है। लेकिन नदी के बीच से खनन सामग्री के वाहन निकलते हैं, जिससे स्वच्छ यमुना दूषित हो रही है। इससे ग्रामीणों ने सरकार से सोम नदी पर अस्थाई पुल बनाने की मांग की है, जिससे वाहन नदी के बीच से नहीं निकलेंगे। 

PunjabKesari, haryana

ग्रामीणों का कहना है कि अवैध खनन के चलते यहां आज से दस साल पहले जो पक्षियों की प्रजातियां थी वो लुप्त होती जा रही हैं, सरकार इस ओर ध्यान दे नहीं तो ये स्वच्छ निर्मल धारा पूर्णत: दूषित हो जाएगी जिसकी स्वच्छता की तारीफ लंदन और विदेशों से आये कई शोधकर्ताओं ने की है। 

यमुना सेवा समिति के अध्यक्ष किरण पाल राणा ने बताया कि  हमने अपना पर्यावरण बचाने के लिए और  जलीय जीव बचाने के लिए प्रयास किया और यहाँ से कई किलो मीटर तक यमुना की स्वच्छ और निर्मल धारा बह रही है। इसलिए हमारा सरकार से एक ही निवेदन है स्थाई या अस्थाई कोई जो भी संभव हो सके वह पुल सोम नदी पर बनाया जाए। जिससे कि जलीय जीव और जो पक्षी हैं वह आराम से रह सकें और उनकी प्रजातियां बढ़ सकें। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static