मंत्री देंवेंद्र बबली के साथ मंच पर नहीं बल्कि शिकायतकर्तों के साथ बैठी विधायक गीता भुक्कल, कहा...

punjabkesari.in Tuesday, May 10, 2022 - 05:54 PM (IST)

झज्जर(प्रवीण): झज्जर में मंगलवार को हुई परिवेदना समिति की बैठक में अजीबोगरीब स्थिति देखने को मिली। यहां स्थानीय विधायक गीता भुक्कल मीटिंग लेने आए सरकार के पंचायत मंत्री देवेन्द्र बबली के साथ मंच पर नहीं बल्कि बैठक में शिकायत लेकर आए शिकायतकर्ताओं के बीच बैठी। हांलाकि मंच से पंचायत मंत्री देवेन्द्र बबली ने कई बार विधायक गीता भुक्कल को मंच पर आने के लिए कहा। लेकिन भुक्कल ने मंत्री के आग्रह को दरकिनार करते हुए केवल इतना हीं कहा कि वह केवल आज शिकायत लेकर आई है और शिकायकर्ताओं के बीच ही बैठेंगी।

दरअसल, पूर्व शिक्षा मंत्री व स्थानीय विधायक अधिकारियों की कार्यशैली से ज्यादा नाराज दिखाई दी। उन्होंने कहा कि वह कई बार अधिकारियों से कह चुकी हैं कि परिवेदना समिति की बैठक को मंगलवार या फिर बुधवार को न रखा जाए। इस बारे में चीफ सैक्रेटरी व विस अध्यक्ष तक को कई बार कहा गया है। लेकिन इन सबके बावजूद भी बैठक को मंगलवार या फिर बुधवार को रखा जाता है।

जबकि इन दो दिनों में उनकी बैठके अधिकांश बार चंड़ीगढ़ में होती है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर होने वाली सरकार की बैठके अधिकारियों के कब्जे में है और वह नहीं चाहते कि जनप्रतिनिधि इन बैठकों में शामिल हो और जनता की शिकायतों का निवारण हो।

भुक्कल ने कहा कि वह जनप्रतिनिधि है और वह चाहती है कि जनप्रतिनिधियों के साथ-साथ जनता को भी सम्मान मिले। उन्होंने परिवेदना समिति की बैठकों में अधिकांश शिकायतें पेंडिंग होने का भी आरोप लगाया। इस दौरान कांग्रेस के बादली हलके के कांग्रेस विधायक डा.कुलदीप वत्स मंच पर मौजूद रहे।लेकिन जब कांग्रेस विधायक गीता भुक्कल की शिकायत पूरी हो गई तो वह भी काफी देर बाद मंच पर आ गई।

बाद में परिवेदना समिति की बैठक लिए जाने के बाद मंत्री देवेन्द्र बबली ने कहा कि जो शिकायतें आई थी उन्हें सुना गया है और अधिकारियों को उनके समाधान के आदेश भी दिए गए है। उन्होंने इस दौरान मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि भ्रष्टाचार किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। कोई भी अधिकारी या फिर कर्मचारी चाहे वह किसी भी विभाग का है यदि भ्रष्टाचार में संलिप्त पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने आम जनता से भी अपील की कि वह भी भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाए और उसे खत्म करने में सरकार का सहयोग दे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static