लापरवाही : सैंपल लिए नहीं और घर पहुंच गई कोरोना निगेटिव रिपोर्ट

5/14/2021 11:16:54 AM

नारनौल़ (योगेंद्र सिंह) : इसे काम का बोझ कहें या लगातार काम करने की थकान जहां स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही लगातार सामने आ रहीं हैं। किसी की कोरोना रिपोर्ट एक सप्ताह बाद नहीं पहुंच रही तो किसी ने टीका लगवाया नहीं और उसका कोरोना सर्टिफिकेट जारी हो जाता है। कल एक नया मामला सामने आया कि समीपस्थ गांव नीरपुर के सतीश शर्मा एवं उसके दो बच्चों का सैंपल जांच के लिए लिया नहीं, लेकिन उनकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव बनाकर भेज दी गई। सतीश शर्मा का कहना है कि उसका भतीजा मोहित दस दिन पहले कोरोना संक्रमित हो गया था।  

इसके बाद आशा वर्कर के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग ने उनके परिवार के सभी सदस्यों के मोबाइल नंबर, आधार नंबर एकत्रित किए और सैंपल लेने गांव टीम पहुंच गई। सतीश का आरोप है कि उसकी टीम से इस बात को लेकर बहस हो गई कि वह गुरुग्राम में कंपनी में काम करता है, उसकी रिपोर्ट जल्दी आ जाए तो वह कंपनी जा पाएगा। इस पर टीम ने सतीश, उसकी पत्नी एवं उसके दो बच्चे के सैंपल छोडक़र घर के 13 में से 9 सदस्यों के सैंपल लिए और वहां से चली गई। सतीश का आरोप है कि अब जब स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट जब मोबाइल पर आई तो वह हैरान रह गए।

सतीश का कहना है कि उसने व उसके दो बच्चों की रिपोर्ट निगेटिव बताई गई, जबकि हमारा सैंपल ही नहीं लिया गया था। वहीं नौ सैंपल में दो की पॉजिटिव रिपोर्ट आई है, सात की निगेटिव। इस पर सतीश का कहना है कि हमारे सैंपल लिए नहीं और रिपोर्ट में निगेटिव बताया तो इस रिपोर्ट पर कैसे विश्वास करें कि यह सही है या गलत। पीएचसी मंढाणा के डॉ अविनाश पूनिया का कहना है कि बिना सैंपल लिए रिपोर्ट आना संभव नहीं है। इसके बाद वह इस मामले को चैक कराएंगे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Recommended News

static