चीन मुद्दे पर श्वेत पत्र जारी करें प्रधानमंत्री मोदी : शैलजा

punjabkesari.in Wednesday, Jul 01, 2020 - 08:55 AM (IST)

सिरसा : कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कुमारी शैलजा ने कहा कि चीन मुद्दे पर प्रधानमंत्री देश की जनता को गुमराह कर रहे हैं। एक तरफ मोदी चीन की कंपनियों से फंड ले रहे हैं और दूसरी तरफ उसके खिलाफ कड़े कदम उठाने का राग अलाप रहे हैं। पत्रकारों से बातचीत में शैलजा ने मांग की कि प्रधानमंत्री मोदी को श्वेतपत्र जारी कर यह बताना चाहिए कि पी.एम. केयर फंड में अभी तक कितना पैसा आया,चाइना की कंपनियों से कितना पैसा मिला और उस पैसे का क्या उपयोग हुआ। 

उन्होंने प्रधानमंत्री से सवाल किए कि चीन की कंपनियों से फंड क्यों स्वीकार किया। चीन की कंपनी हुएइ जिसका सीधा चीन की आर्मी से कनैक्शन है,उससे 7 करोड़ रुपए क्यों लिए। शैलजा ने यह भी सवाल किए कि चीन की कंपनी टिक-टॉक से 30 करोड़ का फंड क्यों लिया गया। इतना ही नहीं चाइना सरकार की 38 प्रतिशत हिस्सेदारी वाली कंपनी पेटीएम से 100 करोड़ रुपए क्यों स्वीकार किए गए। इसके अलावा चाइनीज कंपनी शॉओमी से 15 करोड़ और ओप्पो से 1 करोड़ का फंड लेने की हामी क्यों भरी गई। 

इन तमाम बातों को लेकर कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से श्वेतपत्र जारी कर पूरी स्थिति स्पष्ट करने की मांग की। शैलजा ने कहा कि मोदी चीन के खिलाफ कार्रवाई करने का दिखावा करते हैं,जबकि हकीकत यह है कि मोदी ने चीन के साथ गुपचुप समझौता कर लिया है और चीन की कंपनियों से फंड लेना इसकी पुष्टि करता है।

हरियाणा सरकार एस.सी., बी.सी. वर्ग के हितों पर कर रही कुठाराघात
हरियाणा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष कु. शैलजा ने भाजपा-जजपा सरकार द्वारा रोस्टर सिस्टम से पदोन्नति करने संबंधी पत्र को वापस लिए जाने पर रोष जताते हुए इसे एस.सी., बी.सी. वर्ग के हितों पर कुठाराघात करार दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने नवम्बर 2018 को पत्र जारी करके रोस्टर सिस्टम से प्रोमोशन का प्रावधान किया था, लेकिन अब सरकार आरक्षण को खत्म करने की साजिश तहत नए-नए पत्र जारी कर रही है। इसी कड़ी में 23 जून को पत्र जारी करके वर्ष 2018 के उस पत्र को वापस ले लिया है। इससे एस.सी., बी.सी. वर्ग के हजारों कर्मचारी प्रभावित हुए हैं। 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Edited By

Manisha rana

Related News

Recommended News

static