रैपिड एंटीजन टेस्ट से बढ़ी सैंपलिंग की रफ्तार, 24 दिनों में लिए गए 29 हजार सैंपल

7/26/2020 9:10:41 AM

फरीदाबाद (ब्यूरो) : लगातार कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुुए स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन अधिकारी दोनों परेशान है। इसलिए सैंपल लेने की रफ्तार को तेज किया जा रहा है। ताकि पाजिटिव मामलों की संख्या का पता लगाया जा सके। इस स्तर पर स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन अपनी तैयारी में तेजी ला सके। कोरोना की शुरूआत से लेकर जून महीने के अंत तक जितने कोरोना सैंपल लिए गए थे, उससे कहीं अधिक सैंपल जुलाई महीने में अभी तक लिए जा चुके हैं। 24 जुलाई तक स्वास्थ्य विभाग ने कुल 52466 सैंपल लिए थे, जिनमें से 29039 सैंपल केवल एक से लेकर 24 जुलाई तक लिए गए हैं।

कोरोना की शुरूआत के दौरान स्वास्थ्य विभाग ने केवल आरटीपीसीआर टेस्ट ही किए जा रहे थे। ऐसे में संक्रमित मामलों की संख्या को लेकर असमंजस बना हुआ था। शुरूआत में केवल बीके अस्पताल व ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज में ही सैंपलिंग हो रही थी। उसके बाद बल्लभगढ़ स्थित उपस्वास्थ्य केंद्र में सैंपलिंग का काम शुरू कर दिया गया। संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की तरफ से यहां पर सैंपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए गए ताकि अधिक मरीजों की पहचान कर उन्हें उपचार दिया जाए और संक्रमण को फैलने से रोका जा सके। सैंपलिंग को बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने अपने ग्रामीण क्षेत्रों के अलावा कॉलोनियों में बने स्वास्थ्य केंद्रों पर भी टेस्ट की सुविधा शुरू कराई, जिसके सैंपलिंग अधिक होने लगी। 

मार्च माह में स्वास्थ्य विभाग ने केवल 71 सैंपल लिए थे। 20 मार्च को स्वास्थ्य विभाग ने पहले कोरोना मरीज की पुष्टि की थी। उस समय केवल मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों के सैंपल लिए जा रहे थे। अप्रैल महीने में 2811 सैंपल लिए गए थे। उसके बाद खांसी, जुकाम व बुखार के लक्षण वाले लोगों के सैंपल लेने शुरू किए गए। मंडियों में सैंपलिंग हुई व लॉकडाउन में छूट मिलने से दूसरे राज्यों व विदेशों से आने वाले लोगों की सैंपलिंग हुई। मई महीने में स्वास्थ्य विभाग ने 9436 सैंपल व जून महीने में 11098 सैंपल लिए। इस तरह जून महीने के अंत तक 102 दिनों में 23416 सैंपल लिए गए। जुलाई महीने में सैंपलिंग की रफ्तार बढ़ी और एक जुलाई से 24 जुलाई तक 29039 नए सैंपल लिए गए।


Edited By

Manisha rana

Related News