बड़ी खबर: किसान आंदोलन को झटका, दो फाड़ हुआ संयुक्त किसान मोर्चा

punjabkesari.in Thursday, Jun 24, 2021 - 07:02 PM (IST)

रेवाड़ी (योगेंद्र सिंह): मोदी सरकार द्वारा स्वीकृत कृषि के तीन कानून को लेकर सात माह से किसान आंदोलन कर रहे हैं। कृषि कानून के कारण किसान मंत्रियों के कार्यक्रम तक का विरोध कर रहे हैं, तो हरियाणा में मंत्रियों के घुसने तक पर पांबदी लगा दी। इस आंदोलन को आज उस समय तगड़ा झटका लगा जब जिले में संयुक्त मोर्चा में दो फाड़ होने की जानकारी सामने आ रही है। आने वाले समय में इसका असर यूपी, पंजाब, में भी देखने को मिल सकता है।

एक दिन पूर्व अनाज मंडी में आहूत भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) की बैठक में पदाधिकारियों ने संयुक्त मोर्चा में शामिल अन्य किसान संगठनों पर तालमेल से काम नहीं करने एवं बैठकों में भाग न लेने का आरोप लगाया था। साथ ही किसान भवन में आम आदमी पार्टी के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में चढूनी ग्रुप ने विधानसभा घेराव में भाग लेने का निर्णय लिया था। 

दूसरी ओर यूनियन के जिला प्रधान समय सिंह का कहना है कि संयुक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर 26 जून को चंडीगढ़ में किए जा रहे हरियाणा विधानसभा घेराव में जिले से भी किसान संगठन के सदस्य शामिल होंगे। बैठक में संगठन का विस्तार भी किया गया। इसमें ईश्वर सिंह महलावत बावल को रेवाड़ी जिला उप प्रधान, धर्मवीर गामड़िया को नाहड़ ब्लॉक प्रधान व प्रवक्ता कुलदीप सिंह बूढपुर को वरिष्ठ महासचिव नियुक्त किया गया।  

भाकियू (चढूनी) के जिला प्रधान ने कहा कि रेवाड़ी में संयुक्त किसान मोर्चा बिखर चुका है। जिला में काम कर रहे चारों संगठनों में तालमेल की कमी है तथा अन्य संगठनों के पदाधिकारी बैठकों में भी शामिल नहीं हो रहे हैं। कुछ संगठन काम ही नहीं कर रहे हैं तथा अंगूली कटाकर शहीदों की सूची में अपना नाम लिखवाना चाहते हैं। काफी प्रयासों के बाद भी जब अन्य संगठन बैठक के लिए तैयार नहीं हुए तो उन्हें मजबूरी में अपने ही संगठन की बैठक बुलानी पड़ी। 

उन्होंने कहा कि यदि लड़ाई जीतनी है, तो एकजुट होकर लड़ाई लड़नी होगी। बैठक में जिला महिला प्रधान लक्ष्मीबाई, बावल ब्लॉक प्रधान जगदीश, सवाचंद नंबरदार, चुन्नीलाल, आम आदमी पार्टी जिला संयोजक कुलदीप शर्मा, कमल यादव, चंद्रप्रकाश सहित कई लोग मौजूद थे।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

vinod kumar

Related News

Recommended News

static