राशन डिपो पर गरीबों को मिल रहा मिट्टी मिला गेंहू, खाद्य आपूर्ति विभाग की चोरी के साथ सीनाजोरी

punjabkesari.in Friday, Jul 17, 2020 - 08:12 PM (IST)

ऐलनाबाद (सुरेंद्र सरदाना): खण्ड के गांव खारी सुरेरा के डिपो होल्डर पर मिलावटी गेहूं बांटने का आरोप लगा। ग्रामीणों ने रोष प्रदर्शन किया व मौके पर खाद्य आपूर्ति विभाग को बुलाया। विभाग के इंस्पेक्टर अशोक कुमार मौका पर पहुंचे और ग्रामीणों ने डिपो होल्डर द्वारा उपभोक्ताओं को बांटी गेहूं दिखाई तो अशोक कुमार ने डिपो होल्डर के खिलाफ कोई करवाई करने के बजाए डिपो होल्डर का बचाव करने लगे। उनका कहना था कि एक बैग जो एफसीआई विभाग से आया हुआ है उसमें मिट्टी मिली हुई है तो क्या हो गया? इसे बदल दिया जाएगा। 

इंस्पेक्टर की इस बात पर ग्रामीण भड़क उठे व इंस्पेक्टर अशोक कुमार से तीखी नोक-झोंक भी हुई। ग्रामीणों का आरोप है कि डिपू संचालक उच्च पहुंच वाला है व खाद्य आपूर्ति विभाग की मिलीभगत से ही भ्रष्टाचार तरीके से ऐसी मिलावट की जाती है और गरीब को लूटने का काम किया जाता है। ग्रामीणों ने बताया कि इस से पूर्व भी उन्होंने उक्त डिपो संचालक के खिलाफ सीएम विंडो के माध्यम से शिकायत की थी लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई है। 

दूसरी तरफ डिपो संचालक विनोद कुमार ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा लगाए आरोप बिल्कुल झूठे व निराधार हैं। सीएम विंडो में हुई शिकायत की जांच में वह बिल्कुल निर्दोष पाए गए हैं। 

बहरहाल कुछ भी हो एफसीआई से आई गेहूं के बैग में मिट्टी का मिला होना एक बहुत बड़ा सवालिया निशान खड़ा करता ही है कि कुछ न कुछ तो दाल में काला जरूर है, जो कि उच्चाधिकारियों द्वारा की जांच से सामने आ सकता है।

गौरतलब है कि गरीबों को राशन बांटने वाले सरकारी डिपुओं पर अक्सर राशन न देने के या कम देने के या फिर घटिया व मिलावटी राशन देने के आरोप लगते रहते हैं। वहीं आरोपों के बाद यह शिकायत मात्र कागजी जांच तक ही सिमट कर रह जाती है और डिपो होल्डर नेक पाक सिद्ध होते हैं।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Shivam

Related News

Recommended News

static