निकाय चुनाव से पहले बीजेपी पर बड़ा आरोप, जमानत पर बाहर आए आरोपी को बनाया चेयरमैन प्रत्याशी

punjabkesari.in Monday, Jun 06, 2022 - 04:14 PM (IST)

समालखा(सचिन): नगर निकाय चुनाव के लिए 19 जून को मतदान होगा। इस बीच पानीपत जिले की समालखा नगर पालिका से बीजेपी के चेयरमैन पद के उम्मीदवार अशोक कुच्छल पर गंभीर आरोप लगे हैं। संघर्ष मोर्चा के आरोपों के अनुसार अशोक जिस्मफरोशी के धंधे में दलाली व ब्लैक मेलिंग के 20 लाख रुपए लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार हुआ था। दागी छवि वाले अशोक कुच्छल को उम्मीदवार बनाए जाने पर संघर्ष मोर्चा ने सांसद संजय भाटिया व भाजपा हरियाणा भाजपा को जिम्मेदार ठहराया है और जनता से माफी मांगने के साथ ही चेयरमैन पद प्रत्याशी को पार्टी से निष्कासित करने की मांग की है।

सवा साल जेल में रहने के बाद जमानत पर जेल से बाहर आया है आरोपी

PunjabKesari

समालखा बचाओ संघर्ष मोर्चा के संयोजक एवं  आरटीआई एक्टिविस्ट कॉमरेड पीपी कपूर ने भाजपा की ईमानदारी का भंडाफोड़ करते हुए प्रदेश भाजपा सहित  करनाल से एमपी संजय भाटिया व भाजपा जिला प्रधान अर्चना गुप्ता को कटघरे में खड़ा करते हुए बड़ा गंभीर आरोप लगाया है। कॉमरेड  कपूर ने चौकाने वाला खुलासा करते हुए बताया कि समालखा  नगरपालिका चुनाव में चेयरमैन पद के लिए  भाजपा ने जिस  अशोक कुच्छल को टिकट देकर अपना उम्मीदवार बनाया है, उसे 6 नवंबर 2017 को एफआईआर नंबर 713 अंडर सेक्शन  109/115/116/ 120 / 195 /211 /384 /388/ 389 के तहत जिसमफ़रोशी के धंधे में  20 लाख रुपये की दलाली व ब्लैकमेलिंग करते हुए समालखा पुलिस ने  रंगे हाथों  गिरफ्तार किया था। कुच्छल  करीब सवा साल तक जेल की सलाखों के पीछे कैद रहने के बाद हाई कोर्ट से ज़मानत पर जेल से बाहर निकल पाया।  अदालत में विचाराधीन इस केस में  आरोप साबित होने पर भाजपाई उम्मीदवार अशोक कुच्छल को किसी भी वक्त आजीवन कारावास अथवा 10 वर्ष तक की सजा हो सकती है। इसलिए कॉमरेड ने सवाल उठाया कि  ऐसे संगीन जुर्म के आरोपी व  दागी व्यक्ति को बीजेपी ने पालिका चेयरमैन पद का उम्मीदवार क्यों बनाया ?  ऐसे दागी व्यक्ति को टिकट देने वाली प्रदेश भाजपा सहित  सांसद संजय भाटिया व जिला भाजपा प्रधान अर्चना गुप्ता  को इसका जवाब समालखा की जनता को देना चाहिए। यही नहीं इस टिकट वितरण में दो करोड़ रुपए का खेला होने की भी चर्चा की जा रही है।

पहले भी 3 करोड़ रुपए में पार्षदों को खरीदने का लगा चुका है आरोप

कपूर ने कहा कि  समालखा की जनता जानती है कि पहले भी वर्ष  2016  में यही अशोक कुच्छल करीब तीन करोड़ रुपए के काले धन से नगर पार्षदों को भेड़ बकरियों की तरह सरेआम खरीद कर धनबल से चेयरमैन बना था। इस बड़े व गंभीर खुलासे से भाजपा की ईमानदारी व साफ छवि के दावों का भंडाफोड़ हो चुका है। संघर्ष मोर्चा मांग करता है कि  इस दागी उम्मीदवार को तत्काल पार्टी से निष्कासित कर समालखा की जनता से प्रदेश भाजपा व सांसद संजय भाटिया को माफी मांगनी चाहिए। वरना समालखा की जागरूक जनता ऐसे दागी उम्मीदवार की जमानत जब्त करवा कर भाजपा को चुनाव में मुंहतोड़ जवाब देगी।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च)

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static