संयुक्त मोर्चा का बड़ा ऐलान- ...अब भाजपा-जजपा नेताओं को विरोध नहीं करेंगे किसान

punjabkesari.in Saturday, Jun 12, 2021 - 03:24 PM (IST)

सोनीपत (पवन राठी): सिंघु बॉर्डर पर लगातार किसानों का आंदोलन जारी है और सिर्फ किसान मोर्चा के आह्वान के बाद ही अब आंदोलन आगे बढ़ रहा है। शुक्रवार को संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं की बैठक हुई, जिसमें यह फैसला लिया गया कि अब किसान भाजपा-जजपा नेताओं का विरोध नहीं करेंगे, बशर्ते वह किसी सरकारी कार्यक्रम का हिस्सा न बन रहे हों। मोर्चे के फैसले के मुताबिक, यदि भाजपा-जजपा नेता अपने किसी निजी कार्य से बाहर निकला है तो उसका विरोध नहीं किया जाएगा।

वहीं शनिवार को हुई बैठक के बाद प्रेसवार्ता कर किसान नेताओं ने जानकारी दी कि 26 जून को देशभर के राजभवनों का किसान के घेराव करेंगे और वहां धरने पर बैठने के बाद राज्यपाल को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर तीनों कृषि कानूनों को रद्द करवाने की मांग करेंगे। उन्होंने बताया कि सरकार हमें अनुमति दे या ना दे लेकिन सभी राज भवनों के सामने हम अपना धरना देंगे और राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेंगे। इसके अलावा आने वाली 14 जून को गुरु अर्जुन तेग बहादुर का बलिदान दिवस मनाया जाएगा। और आने वाली 24 जून को रविंद्र नाथ टैगोर की जयंती भी सभी बॉर्डरों पर किसानों द्वारा मनाई जाएगी।

इसी दौरान यह भी बताया गया कि अगर हरियाणा में जेजेपी और बीजेपी नेता किसी पर्सनल काम से जा रहे हैं तो उसका विरोध नहीं करेंगे, लेकिन इसमें किसान नेताओं द्वारा बदलाव किया गया है। किसान नेताओं का कहना है कि शहर में किसी भी सरकारी कार्यक्रम में अगर नेता जाते हैं तो विरोध करेंगे। अगर वह कहीं किसी निजी काम से जा रहे हैं तो किसान विरोध नहीं करेंगे, लेकिन हरियाणा के गांव में किसी भी कार्य के लिए नेताओं को नहीं घुसने दिया जाएगा।
 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static