शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर और नवीन जयहिंद में डिग्री को लेकर छिड़ा विवाद, आमने-सामने हुए दोनों नेता

punjabkesari.in Monday, May 02, 2022 - 10:25 PM (IST)

चंडीगढ़(धरणी): हरियाणा के शिक्षा वन व पर्यटन मंत्री कंवर पाल गुज्जर तथा आम आदमी पार्टी के पूर्व हरियाणा प्रदेश अध्यक्ष नवीन जयहिंद के बीच शुरू हुआ वाक् युद्ध चरम सीमा पर है। नवीन जयहिंद ने शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुज्जर की ग्रेजुएशन की डिग्री को लेकर उन्हें चुनौती दी थी कि अगर उनके पास डिग्री है तो वह सार्वजनिक करें। हरियाणा के शिक्षा व पर्यटन मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने इस मुद्दे पर नवीन जयहिंद पर पलटवार करते हुए कहा की भारत के इतिहास में ज्ञानी जैल सिंह, लालू यादव, हरियाणा के इतिहास में चौधरी देवी लाल चौधरी भजन लाल जैसे बहुत से कद्दावर नेता हुए हैं जो प्रांतीय राजनीति से लेकर देश की राजनीति तक छाए रहे। जिनकी शैक्षणिक योग्यता कुछ भी रही हो लेकिन उन्होंने जनप्रिय नेता होने के नाते लोगों के दिलों पर अपने जमाने में राज किया।

गुर्जर का कहना है कि लोकतांत्रिक व संवैधानिक प्रणाली में जनता यूनिवर्सिटी सबसे बड़ी यूनिवर्सिटी है जो जनप्रतिनिधि को विधायक बनाकर विधानसभा में भेजती है। राजनीति में आने वाले व्यक्ति जनता के चुने हुए प्रतिनिधि यानी जनप्रतिनिधि होते हैं उनकी शैक्षणिक योग्यता पर प्रश्नचिन्ह उठाना उचित नहीं है। जनता के प्यार व समर्थन से जनप्रतिनिधि बनता है। मुख्यमंत्री का विश्वास जिस पर हो वह जनप्रतिनिधि मंत्री व सरकार का अहम हिस्सा बनता है।

कंवरपाल गुर्जर ने कहा कि बेय ए. फाइनल की परीक्षाओं में उनकी कंपार्टमेंट आई थी। उन्होंने अपनी कंपार्टमेंट खेतीवाड़ी में व्यस्त हो जाने की वजह से क्लियर नहीं की। वह बी ए. पास है। मेरे सब सर्टिफिकेट और डिग्रियां मेरी जनता है इसके अलावा अगर कोई देखना चाहता है तो जब हम चुनाव नामांकन पत्र भरते हैं तो उसमें सब चीजें हम साथ लगाते हैं। कोई भी तथ्य हमारे द्वारा छुपाया नहीं जाता। जनता की कसौटी पर खरा उतरने वाला ही जनप्रतिनिधि होता है जिसे जनता जीता कर विधानसभा में भेजती है।

 नवीन जयहिंद भी कहां चुप रहने वालों में से हैं उन्होंने भी कवर पाल गुज्जर के इन बयानों पर तीखी टिप्पणी की है उन्होंने कहा कि जब हरियाणा के अंदर पंचायत के प्रतिनिधि सरपंच बनने के लिए डिग्री चाहिए तो शिक्षा मंत्री बनने के लिए भी प्रॉपर डिग्री चाहिए। उन्होंने कहा कि संवैधानिक रूप से यह परिवर्तन व्यवस्था में अनिवार्य होना चाहिए। जिस प्रांत के अंदर सरपंच वह जनप्रतिनिधि पंचायत ग्रेजुएट होना अनिवार्य है वहां विधायक बनने के लिए भी न्यूनतम योग्यता शैक्षणिक पूरी होनी चाहिए।

जब भी हरियाणा के शिक्षा मंत्री कवर पाल  कहते हैं कि जनप्रतिनिधि कि जब तक जनता में पैड नहीं होती वह तब तक विधायक नहीं बनता। राजनीति में व्यक्ति को कड़ा होना अत्यंत अनिवार्य है। हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर का कहना है कि जब उनकी जनता उन पर भरोसा करती है उन्हें विधानसभा में भेजती है उसी के परिणाम स्वरुप उनकी पार्टी उनका संगठन तथा मुख्यमंत्री उन पर विश्वास करते हैं। इसीलिए 2014 से लेकर 2019 तक पुणे हरियाणा विधानसभा का अध्यक्ष बनाया गया। 2019 से अब तक वह हरियाणा के शिक्षा व पर्यटन मंत्री हैं। कंवर पाल गुज्जर ने यह भी कहा की संविधान ने उन्हें की अनुमति दी है कि उनकी शिक्षा जो मर्जी हो विधानसभा का चुनाव लड़ सकते हैं। विधायक होने के नाते आज वह हरियाणा सरकार में मंत्री मंडल का अहम हिस्सा है।

नवीन जयहिंद  ने कहा है कि कंवरपाल गुर्जर ने यह कहा है कि वह मास्टर बनने लायक है। उन्होंने कहा कि मास्टर शिक्षाविद यानी गुरु जन होते हैं। शिक्षाविद होने के लिए डिग्री अनिवार्य होती है और कोई भी मास्टर बिना डिग्री के नहीं बनता। नवीन जैन ने कटाक्ष करते हुए कहा की कंवरपाल गुर्जर तो यह भी कहते हैं कि विधायक होने के नाते आज वह मंत्री हैं और वह मुख्यमंत्री भी बन सकते हैं। जयंहिन्द का कहना है कि ऐसा कहकर वह अपने विधायक दल के नेता के प्रति तथा अपनी महत्वाकांक्षा भी जाहिर कर रहे हैं।

 हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवर पाल गुर्जर का कहना है कि वह भाजपा के समर्पित कार्यकर्ता जगाधरी के विधायक तथा जनप्रतिनिधि होने के साथ-साथ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की विश्वसनीय टीम यानी मंत्री परिषद के सदस्य हैं मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में हरियाणा ने दिन रात  तरक्की की है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल उनके नेता हैं तथा उन्होंने मुख्यमंत्री मनोहर लाल से राजनीतिक जीवन में बहुत कुछ सीखा है। नवीन जहहिंद के ऐसे बयान अनर्गल तथा बेबुनियाद है।

हरियाणा की राजनीतिक गलियारों की बात करें तो आजकल नवीन जयहिंद तथा शिक्षा मंत्री कुंवर पाल गुर्जर के बयानों में चल रही रस्साकशी को लेकर चारों तरफ चर्चा हुआ अटकलों के दौर शुरू है। इन दोनों में शुरू हुआ वाक् युद्ध किस दिशा में जाएगा यह अब आने वाले दिनों में पर निर्भर करेगा ।

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static