डॉक्टर की बड़ी लापरवाही, गर्भवती महिला के ऑपरेशन के दौरान प्राइवेट पार्ट में छोड़ी रूई

punjabkesari.in Tuesday, Aug 16, 2022 - 03:27 PM (IST)

कैथल(जयपाल रसूलपुर): कहावत है कि बीमार व्यक्ति का भगवान के बाद एक डॉक्टर ही सहारा होता है। डॉक्टर यदि किसी की जिंदगी बचा सकता है तो इलाज के दौरान लापरवाही बरतने के कारण किसी की जान ले भी सकता है। ऐसा ही मामला कैथल से सामने आया है, जहां एक निजी हॉस्पिटल के डॉक्टर द्वारा इलाज के दौरान बरती गई लापरवाही एक महिला पर भारी पड़ गई। दरअसल 2 अगस्त को गांव करोड़ा निवासी अंजलि को कैथल के करनाल रोड स्थित निजी मदद अस्पताल में उसकी डिलीवरी करवाने के लिए लाया गया था। जब महिला की डिलीवरी हुई तो उन्होंने प्राइवेट पार्ट में कट लगाकर उसके अंदर रोई लगा दी थी जिसको वह निकालना भूल गए। उसके बाद महिला को जब कई दिनों तक तकलीफ कम नही हुई तो पीड़िता ने अपने पति को इस बारे में बताया।  उसके बाद परिजन महिला को कई बार हॉस्पिटल में दिखाने के लिए आते रहे और डॉक्टरों महिला को बिल्कुल ठीक बता कर वापिस भेजते रहे। 

PunjabKesari

जब महिला को ज्यादा दिक्कत आने लगी तो परिजन उसको किसी अन्य निजी अस्पताल में ले गए और वहां पर इलाज के दौरान डॉक्टर ने देखा कि पीड़ित महिला के प्राइवेट पार्ट में डॉक्टर ने भरते हुए रोई अंदर ही छोड़ दी थी, जिसको इलाज के दौरान अब निकाल दिया गया है। 

परिजनों ने प्रशासन से अपील की है कि ऐसे डॉक्टरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए ताकि और लोगों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ ना हो। परिजनों ने कहा कि वह अभी शिकायत देकर डॉक्टर द्वारा बरती गई लापरवाही के खिलाफ मामला दर्ज भी करवाएंगे । 

PunjabKesari

इस मामले को लेकर जब हॉस्पिटल के डॉक्टर एसपी सिंह से बात की गई तो पहले उन्होंने डिलीवरी हॉस्पिटल में होने की बात से ही मना कर दिया जब परिजनों द्वारा उनको डिस्चार्ज स्लिप दिखाई गई तो उन्होंने परिजनों द्वारा लगाए गए सभी आरोपों को झूठा बताया।  फिलहाल डॉक्टर द्वारा बरती गई लापरवाही के कारण जच्चा और बच्चा दोनों जिंदगी और मौत की लड़ाई से जूझ रहे हैं वहीं डॉ अपनी गलती मानने को तैयार नहीं है। परिजनों का कहना है कि प्रशासन को ऐसे लापरवाह डॉक्टरों के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए। ो

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static