अनिल विज की एक टिप्पणी के चलते, उच्च पद से दूर हुए IPS मनोज यादव

punjabkesari.in Friday, Jun 24, 2022 - 07:37 PM (IST)

चंडीगढ़(धरणी): हरियाणा के आईपीएस अधिकारी मनोज यादव को बतौर डीजीपी रहते गृह मंत्री अनिल विज के द्वारा एसीआर के जो नंबर दिए गए और साथ ही जो टिप्पणी की गई, उसे लेकर वे उनकी अगली पोस्टिंग में उच्च पद से दूर हो गए। किसान आंदोलन के दौरान शंभू बॉर्डर से दिल्ली बॉर्डर तक किसानों के पहुंचने के लिए गृह मंत्री अनिल विज ने हरियाणा के तत्कालीन डीजीपी मनोज यादव की कार्यप्रणाली पर उंगली उठाई थी। अनिल विज ने उन दिनों कहा था कि दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का पहुंचना कहीं ना कहीं पुलिस की चूक है।

किसान आंदोलन के दौरान गृह मंत्री ने डीजीपी की कार्यप्रणाली पर उठाई थी उंगली

मनोज यादव अतीत में जब केंद्र में प्रतिनियुक्ति पर थे, तब भी वह आईबी में जॉइंट डायरेक्टर के पद पर थे। मनोज यादव डायरेक्टर पद से क्यों दूर हो गए, इस बात को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि हरियाणा के अंदर डीजीपी रहते हुए हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज द्वारा लिखी गई उनकी एसीआर तथा उसके साथ की गई टिप्पणी उनको डायरेक्टर पद से दूर कर गई है। गौरतलब है कि हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने किसान आंदोलन के दौरान शंभू बॉर्डर से दिल्ली बॉर्डर तक किसानों के पहुंचने के लिए हरियाणा के तत्कालीन डीजीपी की कार्यप्रणाली पर उंगली उठाई थी। अनिल विज ने उन दिनों कहा था कि दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का पहुंचना कहीं ना कहीं पुलिस की चूक है।

पुलिस कर्मचारियों के लिए ट्रांसफर पॉलिसी ना बनना भी बना कारण

गृह मंत्री विज, हरियाणा के पुलिस कर्मचारियों के ग्रुप बी तथा ग्रुप सी के लिए वेलफेयर के कई काम करना चाहते थे। इसे लेकर हरियाणा के डीजीपी रहे मनोज यादव को मंत्री विज ने कई संदेश भी भिजवाया। लेकिन 2018 से लेकर यादव के कार्यकाल तक पुलिस वेलफेयर के लिए कोई भी मीटिंग आयोजित ना किए जाना अनिल विज की नाराजगी का एक कारण था। इसी के साथ अनिल विज की नाराजगी का एक अहम कारण था कि नारकोटिक्स ब्यूरो 1 साल से अधिक सफेद हाथी बना रहा। उन दिनों अनिल विज की नाराजगी का तीसरा और अहम कारण यह भी रहा कि अनिल विज ने पुलिस कर्मचारियों के लिए ट्रांसफर पॉलिसी बनाने की बात की थी, जो सिरे नहीं चढ़ी। विशेषकर महिला पुलिस कर्मचारियों को ट्रांसफर पॉलिसी का लाभ सबसे ज्यादा मिलना था, क्योंकि कोई महिला एक जगह से दूसरी जगह शादी होकर जाने के बाद पोस्टिंग कैसे लें इसका प्रावधान करने तथा गर्भावस्था में महिलाओं को गृह जिले में पोस्टिंग देने जैसे मुद्दे कार्यनिवन्नत नहीं हो पाए थे।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static