नरवाना में यूरिया खाद के लिए किसानों की जद्दोजहद जारी, रोड पर जाम लगाकर किया हंगामा

punjabkesari.in Sunday, Jan 16, 2022 - 08:36 AM (IST)

नरवाना : नरवाना में यूरिया खाद को लेकर शनिवार को भी किसानों की जद्दोजहद जारी रही। हालांकि शुक्रवार को नरवाना में यूरिया खाद के 24000 बैग पहुंचे थे और शुक्रवार को दिनभर किसानों को खाद के लिए टोकन वितरित किए गए लेकिन शनिवार को एक बार फिर किसानों की भारी भीड़ यूरिया खाद लेने के लिए नरवाना पहुंच गई। जिन किसानों को शुक्रवार को टोकन दिए गए थे उन्हें भी शनिवार को खाद दी जानी थी। इसी बात को लेकर किसानों के बीच आक्रोश बढ़ गया।

एक तरफ जहां जिन किसानों को टोकन मिले हुए थे वे कह रहे थे कि पहले उन्हें खाद दी जाए। दूसरी तरफ भारी संख्या में पहुंचे अन्य किसान भी खाद के लिए टोकन दिए जाने की मांग कर रहे थे। इसी जद्दोजहद के चलते शनिवार सुबह मालगोदाम रोड पर किसानों ने खूब हंगामा किया। शनिवार दोपहर एक खाद विक्रेता की फर्म पर जा रहे खाद के 2 ट्रकों व एक ट्रैक्टर-ट्राली को किसानों ने बीच रास्ते में ही रोक लिया और वाहनों के आगे बैठकर मालगोदाम रोड पर जाम लगा दिया। 

किसानों का कहना था कि जिन किसानों को खाद के टोकन मिले हुए हैं पहले उन्हें खाद के बैग दिए जाएं फिर वे वाहनों को फर्म पर जाने देंगे। सूचना मिलने पर सिटी चौकी प्रभारी पवन कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और उन्होंने किसानों के साथ बातचीत कर जाम खुलवाया और वाहनों को वहां से भिजवाया। यूरिया खाद लेने के लिए किसानों की लंबी-लंबी कतारें लगीं। शुक्रवार दोपहर बाद पुराने कोर्ट रोड पर जब एक खाद विक्रेता के पास खाद वितरण किया जा रहा था तो वहां भी काफी हंगामा हुआ।

पुलिस की मौजूदगी में जिन किसानों को टोकन मिले हुए थे, उन्हें खाद वितरित करवाया गया। किसानों का आरोप था कि खाद विक्रेता निर्धारित रेट पर खाद न देकर ऊंचे दामों पर खाद बेच रहे हैं और खाद के साथ अनावाश्यक कीटनाशक दवाइयां भी किसानों को दी जा रही हैं जो कि बिल्कुल गलत है। किसानों ने आरोप लगाया कि पूरा-पूरा दिन लाइनों में लगने के बाद भी उन्हें खाद नहीं मिल रही है। किसानों द्वारा लगातार किए जा रहे हंगामे को देखते हुए शनिवार दोपहर बाद अचानक खाद बीज दवा विक्रेताओं की एसोसिएशन ने भी अपनी-अपनी दुकानें बंद कर दीं। दुकानें बंद करने के बाद एसोसिएशन के सभी सदस्यों की एक मीटिंग हुई जिसमें फैसला लिया गया कि खाद विक्रेता के पास इस समय जो खाद का स्टाक उपलब्ध है वह केवल उस स्टाक को बेचेगा और उसके बाद कोई भी खाद डीलर खाद नहीं मंगवाएगा। 

इस बारे में जब उपमंडल कृषि अधिकारी डा. देवेंद्र सिंह व कृषि अधिकारी वीरेंद्र बूरा से बात की गई तो उन्होंने बताया कि शुक्रवार को किसानों को 1800 कूपन दिए गए थे और शुक्रवार को भी खाद वितरित की गई थी और जिन किसानों को कूपन मिलने के बावजूद खाद नहीं मिली थी उन्हें शनिवार को खाद दी जानी थी लेकिन शनिवार को काफी संख्या में पहुंचे किसान उन्हें भी खाद के टोकन दिए जाने की मांग कर रहे थे। 

उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारी लगातार मौके पर मौजूद रहकर पारदर्शी तरीके से खाद का वितरण करवा रहे हैं। कृषि अधिकारी ने कहा कि विभाग व प्रशासन किसानों को खाद दिलवाने के लिए और व्यापारियों को खाद वितरण में व्यवस्था बनवाने के लिए हर समय तैयार है लेकिन किसानों को भी व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग करना चाहिए। किसान नेता मा. बलवीर सिंह ने कहा कि खाद की समस्या को लेकर किसान परेशान हैं इसलिए सरकार को चाहिए कि ज्यादा से ज्यादा खाद भेजने की व्यवस्था करे ताकि किसान अपनी जरूरत को पूरा कर सकें।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static