हरियाणा में एक वर्ष में घट गए 65 हज़ार मतदाता, हालांकि गत वर्ष छ: माह में बढ़े थे 3.33 लाख

10/15/2020 11:01:31 AM

चंडीगढ़ (चन्द्र शेखर धरणी) : हरियाणा के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ ) द्वारा  प्रदेश  के सभी 22 ज़िलों में कुल रजिस्टर्ड मतदाताओं की ताज़ा संख्या इस वर्ष 1 जनवरी 2020 की योग्यता तिथि के आधार पर एवं 25 सितम्बर 2020  को प्रकाशित फाइनल मतदाता सूचियों के अनुसार 1 करोड़ 83 लाख 25 हज़ार 132  है। गत वर्ष 4 अक्तूबर 2019 को अर्थात हरियाणा विधानसभा आम चुनाव, 2019  से कुछ दिन पूर्व प्रदेश में  मतदाताओं की  संख्या 1 करोड़ 83 लाख 90 हज़ार 525 थी. इस प्रकार अक्टूबर, 2019 और अक्टूबर, 2020 के मध्य अर्थात बीते एक वर्ष में हरियाणा के कुल मतदाताओं की संख्या 65 हज़ार 393 घट गयी है। प्रदेश में पुरुष मतदाताओं की संख्या 85 हज़ार 957 घटी है  हालांकि महिलाओं की संख्या 20 हज़ार 816 बढ़ गयी है.

हालांकि गत वर्ष अप्रैल, 2019 में अर्थात 17 वी लोकसभा आम चुनाव से कुछ दिनों पूर्व हरियाणा में मतदाताओं की कुल संख्या 1 करोड़ 80 लाख 56 हज़ार 896 थी अर्थात गत वर्ष छः महीनो- अप्रैल,2019 से अक्टूबर, 2019 में यह संख्या 3 लाख 33 हज़ार 629 बढ़ गयी थी. अब यह देखने लायक है कि जब गत वर्ष छः माह में इतने मतदाता बढ़ गए थे तो  उसके बाद एक वर्ष में 65 हज़ार से ऊपर मतदाता कैसे घट गए ?

प्रदेश के सभी ज़िलों के बीते एक वर्ष का  आकलन कर बताया कि पंचकूला ज़िले में गत  वर्ष अक्टूबर, 2019 में 3 लाख 86 हज़ार 850 मतदाता थे जो बीती सितम्बर माह में बढ़कर 3 लाख 89 हज़ार 301 हो गए अर्थात 2451 बढ़ गए हैं.

. अम्बाला ज़िले में गत वर्ष कुल 8 लाख 47 हज़ार 45 मतदाता थे, वह अब 7390  बढ़कर 8 लाख 54 हज़ार 435 हो गए हैं।
. यमुनानगर ज़िले के मतदाता एक वर्ष में 8 लाख 48 हज़ार 537 से  11 हज़ार 491   घटकर अब 8 लाख 37 हज़ार 46 हो गए हैं।
. कुरुक्षेत्र में मतदाता गत वर्ष 7 लाख 13 हज़ार 597 से  2510    कम होकर 7 लाख 11 हज़ार 87 हो गए हैं।
. कैथल में मतदाताओं की संख्या 7 लाख 67 हज़ार 514 से 1445 घटकर 7 लाख 66 हज़ार 69 हो गयी है।
. सीएम सिटी करनाल में 4159 मतदाता कम हुए हैं. यहाँ गत वर्ष 10 लाख 94 हज़ार 793 मतदाता थे जो अब 10 लाख 90 हज़ार 634 हो गए हैं।
. पानीपत में 12 हज़ार 74 मतदाता घट गए हैं. यह गत वर्ष 8 लाख 47 हज़ार 821 मतदाता थे जो  अब 8  लाख 35 हज़ार 747 हैं।
. हालांकि सोनीपत में बीते एक वर्ष 8182 मतदाता बढ़े हैं. यहाँ गत वर्ष 10 लाख 78 हज़ार 118 मतदाता थे जो अब  10 लाख 86  हज़ार 300 हो गए हैं।
. जींद ज़िले में गत वर्ष 9 लाख 54 हज़ार 515 मतदाताओं में से  8861 मतदाता कम होकर अब 9 लाख 45 हज़ार 654 मतदाता हो गए हैं।
. फतेहाबाद में भी 5526 मतदाता घटे हैं. यहां पिछले वर्ष 6 लाख 75 हज़ार 417 मतदाता थे जो अब 6 लाख 69 हज़ार 891 हो गए हैं।
. सिरसा ज़िले में पहले 9 लाख 45 हज़ार 638 मतदाता थे जो अब 9 लाख 40 हज़ार 900 होकर अर्थात 4738 घट गए हैं।
. हिसार ज़िले में भी 6292 मतदाता कम हुए हैं. यहां गत वर्ष 12 लाख 44 हज़ार 503 मतदाता थे जो अब  12 लाख 38 हज़ार 211 हो गए हैं।
भिवानी ज़िले में 10 हज़ार 890 मतदाता घटे हैं. यहां पहले 8 लाख 19 हज़ार 976 मतदाता थे जो अब 8 लाख 9 हज़ार 86 हो गए हैं।
. चरखी दादरी में भी 9633 मतदाता कम हुए हैं. यहाँ पहले 3 लाख 82 हज़ार 329 मतदाता थे जो अब 3 लाख 72 हज़ार 696 हो गए हैं।
. रोहतक में 4251 मतदाता बढ़े हैं. यहाँ गत वर्ष 7 लाख 79 हज़ार 718 मतदाता थे जो अब 7 लाख 83 हज़ार 969 हो गए हैं।
. हालांकि झज्जर ज़िले में 846 मतदाता घटे हैं. यहाँ पहले 7 लाख 42 हज़ार 15 मतदाता थे जो अब 7 लाख 41 हज़ार 169 हो गए हैं।
. महेंद्रगढ़ ज़िले में भी 13 हज़ार 231 मतदाता घटे हैं. यहां पहले 6 लाख 80 हज़ार 935 मतदाता थे जो अब 6 लाख 67 हज़ार 704 मतदाता हो गए हैं।
. रेवाड़ी ज़िले में पहले 6 लाख 86 हज़ार 500 मतदाता थे जो अब 11 हज़ार 815 घटकर 6 लाख 74 हज़ार 685 हो गए हैं।
. गुडगाँव में 212 मतदाता कम हुए हैं. यहाँ गत वर्ष 12 लाख 10 हज़ार 398 मतदाता थे जो अब 12 लाख 10 हज़ार 186 हो गए हैं।
. नूहं (मेवात ) ज़िले में भी 2768 मतदाता घटे हैं. यहाँ पहले 5 लाख 51 हज़ार 859 मतदाता थे जो अब 5 लाख 49 हज़ार 91 हो गए हैं।
. पलवल ज़िले में ही 2148 मतदाता कम हुए हैं. यहाँ पहले 6 लाख 20 हाज़िर 400 मतदाता थे जो अब 6 लाख 18 हज़ार 252 हो गए हैं।
. फरीदाबाद ज़िले में गत वर्ष से 20972 मतदाता बढ़े हैं जहाँ पहले 15 लाख 12 हज़ार 47 मतदाता थे जो अब 15 लाख 33 हज़ार 19 हो गए हैं।

हरियाणा के सभी 90  विधानसभा हलकों में  गुडगाँव जिले का  बादशाहपुर  विधानसभा सभा हलका   मतदाताओं की संख्या की दृष्टि से प्रदेश में सबसे बड़ा हलका है जिसमे वर्तमान में  मतदाताओ की संख्या 3 लाख 97 हज़ार 522 है जबकि इस आधार पर महेंद्रगढ़ जिले का नारनौल विधानसभा हल्का प्रदेश में सबसे छोटा है जहाँ बादशाहपुर के आधे से भी कम अर्थात 1 लाख 41 हज़ार 962 मतदाता  हैं। सोनीपत के बरोदा हलके जहाँ आगामी 3 नवम्बर को मतदान होना है, वहां ताज़ा मतदाता संख्या 1 लाख 78 हज़ार 250 मतदाता हैं जो गत वर्ष अक्टूबर, 2019 की मतदाता संख्या 1 लाख 77 हज़ार 994 से 256 अधिक हैं।

बहरहाल, इसी बीच पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के एडवोकेट एवं कानूनी विश्लेषक  हेमंत कुमार ने कहा है  कि हालांकि गत वर्ष अप्रैल, 2019 में अर्थात 17 वी लोकसभा आम चुनाव से कुछ दिनों पूर्व हरियाणा में मतदाताओं की कुल संख्या 1 करोड़ 80 लाख 56 हज़ार 896 थी अर्थात गत वर्ष छः महीनो- अप्रैल,2019 से अक्टूबर,2019 में यह संख्या 3 लाख 33 हज़ार 629 बढ़ गयी थी. अब यह देखने लायक है कि जब गत वर्ष छः माह में इतने मतदाता बढ़ गए थे तो  उसके बाद एक वर्ष में 65 हज़ार से ऊपर मतदाता कैसे घट गए ?

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Manisha rana

Recommended News

static