कानून वापसी की घोषणा पर हरियाणा के दिग्गजों ने किया ट्वीट, पढ़िए किसने क्या कहा?

punjabkesari.in Friday, Nov 19, 2021 - 07:32 PM (IST)

डेस्क: देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज 3 कृषि कानूनों को वापस लेने का फैसला कर दिया, जिसके बाद आंदोलनरत किसानों में खुशी की लहर झूम उठी। वहीं सियासी गलियारों में सत्तापक्ष के नेताओं ने प्रधानमंत्री मोदी के इस फैसले का स्वागत किया तो दूसरी तरफ विपक्ष दलों ने प्रधानमंत्री के इस ऐलान पर भी करारा निशाना साधा। हरियाणा के सियासतगारों ने इसको लेकर अपनी अपनी बात ट्विटर के माध्यम से सबके सामने रखी।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने लिखा, 'गुरु नानक देव जी के प्रकाशपर्व और देव दीपावली के अलौकिक पर्व पर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की घोषणा और अपील का मैं स्वागत करता हूँ। कृषि और किसानों के हित में भारतीय जनता पार्टी सदैव समर्पित रही है और आगे भी उनके कल्याण के कार्य करती रहेगी।'
 

हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने लिखा, 'गुरुपर्व के पवित्र अवसर पर कृषि कानूनों को वापस लेने के केंद्र सरकार के फैसले का हम स्वागत करते हैं. सामाजिक शांति और भाईचारे की बहाली के लिए यह कदम सराहनीय है. मैं सभी किसान जत्थेबंदियों से धरना समाप्त करने का आग्रह करता हूँ. हम किसान हित के लिए हमेशा प्रयास करते रहेंगे.'


हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने लिखा, 'प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव पर तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा पर सभी किसान संगठनों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार प्रकट करना चाहिए और अपने धरने तुरंत उठाकर अपने अपने घरों को जाकर अपने नियमित कामों में लगना चाहिए ।'
 


विपक्षी दल के नेता भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने लिखा, 'देर आए, दुरुस्त आए! किसानों का संघर्ष रंग लाया। 3 कृषि कानूनों को वापस लेने के फैसले पर किसानों को हार्दिक बधाई। आंदोलनकारियों पर दर्ज सभी केस वापस लिए जाएं। साथ ही आंदोलन में जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को उचित मुआवजा व सरकारी नौकरी दी जाए।'

 

 

कांग्रेस के राष्ट्रीय महा सचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने लिखा, 'तो आखऱिकार मोदी जी और भाजपा सरकार ने मान ही लिया कि तीन खेती विरोधी काले क़ानून "पर्सनल इंट्रेस्ट और पार्टी इंट्रेस्ट" की उपज हैं। क्या अब भी और सबूत चाहिए?'

 

 

 


कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्षा कुमारी सैलजा ने लिखा, 'सत्यमेव जयते एक लंबे संघर्ष और सैकड़ों अन्नदाताओं के बलिदान के बाद आखिरकार अहंकारी भाजपा सरकार को अहिंसक आंदोलन के सामने झुकना पड़ा। काले कृषि कानूनों को लेकर श्री राहुल गांधी जी की कही हुई एक-एक बात आज सही साबित हुई है। सभी किसान और मजदूर भाइयों को बहुत-बहुत बधाई।'

 

 

 


इसके अलावा भारतीय एथलीट बजरंग पुनिया ने लिखा, 'केन्द्र सरकार ने तीनों कृषि क़ानून वापस लेने का फ़ैसला लिया मैं किसानों को बधाई देता हूँ। धन्यवाद माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी, इस ऐतिहासिक फैसले से समाज में आपसी सौहार्द का वातावरण और मजबूत होगा।जय जवान जय किसान।'

 

 

इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला ने लिखा, 'सरकार द्वारा काले कानून वापिस लेने के फैसले का स्वागत, लेकिन- रूस्क्क का लिखित कानून बने, शहीद हुए किसानों को शहीद का दर्जा व उनके परिवारों को आर्थिक सहायता, किसानों पर दर्ज मुकदमें वापिस हों। तीन काले कानून रद्द करने के साथ आगामी संसद सत्र में इन सभी मांगों को कानूनी रूप दिया जाए।'

 

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static