ग्राम सचिव, वन अधिकारी ने कटवा दिए अवैध रूप से 1400 पेड़, जिला उपायुक्त ने कार्रवाई की सिफारिश की

punjabkesari.in Monday, Jul 04, 2022 - 08:27 PM (IST)

गुड़गांव/ पटौदी (ब्यूरो):  गांव गुढाणा में 20 एकड़ से ज्यादा जमीन पर खड़े 1400 पड़ो को अवैध रूप से काटने के मामले में जिला उपायुक्त द्वारा तत्कालीन ग्राम सचिव, वन अधिकारी को दोषी करार दिया गया है। इस संबंध में जिला उपायुक्त ने इन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए महानिदेशक विकास एंव पंचायत विभाग चंडीगढ़ को पत्र लिखा है। इसके अलावा इस मामले में और ग्राम सरपंच को भी दोषी पाया गया है।

गुरुग्राम की खबरों के लिए इस लिंक https://www.facebook.com/KesariGurugram पर क्लिक करें।



क्या है मामला:
वर्ष 2017 में ग्राम गुढाणा में पंचायती जमीन पर खड़े 1400 पेड़ों को तत्कालीन सरपंच ने ग्राम सचिव और वन अधिकारियों के साथ मिलकर कटवा दिया था। इतनी ज्यादा सं या में पेड़ के कटने के बाद गांव में इसका विरोध शुरू हुआ। बाद में इस मामले में शिकायत की गई तो पता चला कि वन विभाग की अनुमति के बिना ही इन पेड़ों को काट दिया गया। अब जमीन को बोली पर ग्रामीणों को बुआई पर दिया जा रहा है।

वन विभाग ने मना किया:
दरअसल ग्राम पंचायत द्वारा जिला उपायुक्त व गुरुग्राम वन विभाग से पेड़ो की संख्या बताकर इनके मूल्य के बारे में पूछा गया। वन विभाग ने पेड़ों का मूल्य 109000 रुपए बताए तथा इन पेड़ों को काटने की परमिशन नहीं दी। इसके बावजूद वन विभाग के अधिकारी की मौजूदगी में खुली बोली लगाकर इन पेड़ों को 520100 रुपए में बेच दिया और पैसा बैंक में जमा करा दिया। जिस जगह से पेड़ काटे गए वहां गांव के विकास कार्य कराए जाने थे।


वहीं इस संबंध में ग्रामीण मुकेश कुमार का कहना है कि नियमों को दरकिनार कर सरपंच द्वारा काम किया गया। इसके अधिकारियों की मिलीभगत भी सामने आई है। दोषियों के खिलाफ एफआईआर कराई जाए। इसके अलावा वन विभाग के कर्मचारी भी शामिल हैं।

कार्रवाई की मांग:
इस संबंध में तत्कालीन ग्राम सचिव देवेंद्र कुमार रंगा, सहायक कप्तान सिंह वन विभाग के खिलाफ जिला उपायुक्त और डीडीपीओ नरेंद्र सारवान ने विभागीय कार्रवाई करने के लिए महानिदेशक विकास एवं पंचायत विभाग को लिखा है। इसके अलावा ग्राम सरपंच मुकेश कुमार भी इस मामले में फटकार लगाई है वह खंड विकास पंचायत अधिकारी ने इनके खिलाफ भी कार्यवाही करने का आग्रह किया है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pawan Kumar Sethi

Related News

Recommended News

static