हरियाणा के मुस्लिम बाहुल्य जिले में कोरोना एक्टिव केसों की संख्या 52, 4 लोगों को किया गया डिस्चार्ज

4/17/2020 5:09:43 PM

नूंह मेवात(ऐ.के. बघेल)-  हरियाणा के मुस्लिम बाहुल्य जिला नूह मे कोरोना वायरस केसों की संख्या 56 हो गई है हालांकि 56 में से नल्हड़ मेडिकल कालेज आइसोलेशन वार्ड में भर्ती चार लोगों को पूरी तरह स्वस्थ होने के कारण डिस्चार्ज किया जा चुका है । अब एक्टिव केसों की संख्या 52 रह गई है । ठीक होने वाले तब्लीगी जमात से सम्बंध रखते हैं । चारों को मालब गांव के एकांतवास में 14 दिन तक एहतियात के तौर पर रखा जाएगा। 
 
नल्हड़ मेडिकल कॉलेज में जिन पॉजिटिव मरीजों का इलाज चल रहा था । उनमें से केरल के रहने वाले तबलीगी जमात के सदस्य मोहम्मद अब्दुल्ला उम्र 22 वर्ष को पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद गुरुवार को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया । इसके कुछ घण्टे बाद जम्मू कश्मीर के रहने वाले नासिर को डिस्चार्ज किया गया। नासिर ओर अब्दुल्ला दोनों तब्लीगी जमात के सदस्य बताए गए हैं।  इनके अलावा केरल व साउथ अफ्रीका के दो तब्लीगी जमातियों को डिस्चार्ज कर एकांतवास में भेजा गया है । आठ नए केसों में बिछोर , सिंगार , घिडा , लाहबास गांव में एक - एक केस तथा जाख , अखनाका गांव में दो - दो नए केस मिले हैं। आठ नए केस में तीन महिलाएं भी शामिल  हैं। नए केस सभी नूह जिले के रहने वाले हैं। कुछ केस की ट्रेवल हिस्ट्री रही है। तो कुछ तब्लीगी जमात के कॉंटेक्ट में आने की वजह से पॉजिटिव हुए।

आपको बता दें कि नूह जिले में करीब 2033 लोगों को सर्विलांस पर रखा गया है  जिनमें से 331 लोगों का सर्विलेंस पीरियड पूरा हो चुका है । अब सर्विलांस पर 1702 लोग रखे गए हैं । इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने अब तक 1143 लोगों के सैंपल लेकर जांच के लिए पीजीआई रोहतक व गुरुग्राम के एक निजी लैब में भेजे हैं । जिनमें से 974 की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है तथा 56 की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है । जिला नॉडल अधिकारी एवं उप सिविल सर्जन डॉ अरविंद कुमार ने  बताया कि जिले में 52 केस एक्टिव हैं, क्योंकि चार मरीज को गुरुवार को नल्हड़ मेडिकल कॉलेज से छुट्टी दे दी गई है । अभी भी करीब 113 केसों की रिपोर्ट आना बकाया है ।

उन्होंने बताया कि नल्हड़ मेडिकल कॉलेज तथा अल आफ़िया सामान्य अस्पताल मांडीखेड़ा में कुल मिलाकर 52 लोग आइसोलेशन वार्ड में इस समय भर्ती हैं । डिप्टी सिविल सर्जन डॉक्टर अरविंद ने यह भी कहा की रोजाना स्वास्थ विभाग की टीमें सर्वे कर रही हैं । ज्यादा से ज्यादा लोगों के सैंपल लेने पर जोर दिया जा रहा है , ताकि समय रहते कोरोना पॉजिटिव की पहचान होने के उपरांत उसका व उसके कांटेक्ट में आए लोगों का इलाज किया जा सके।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Isha

Related News

Recommended News

static