किसान आंदोलन में पहुंचे ओपी चौटाला बोले, कानून भी बदले जाएंगे और सरकार भी

7/20/2021 3:22:29 PM

पलवल(दिनेश):  पलवल, जेल से बाहर आने के बाद पहली बार किसानों के धरने पर पलवल पहुंचे इनेलों सुप्रीमों ओम प्रकाश चौटाला ने भाजपा की केंद्र सरकार व प्रदेश की गठबंधन सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा की करीब 8 माह से चल रहे किसान आंदोलन को 36 बिरादरी का समर्थन मिल रहा है और केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानून किसान विरोधी हैं।  बीजेपी सरकार पूंजीपतियों की सरकार है। उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि वो देश के हर किसान के साथ मजबूती से खड़े रहेंगे और गाँव -गाँव जाकर किसान आंदोलन को और मजबूती देने का काम करेंगे ताकि तीन कृषि कानून रद्द हों।  


 आज पलवल में हजारों की संख्या में किसान धरना स्थल पर पहुंचे ओपी चौटाला को समर्थन भी दिया। इस मौके पर  इनेलो सुप्रीमों ओम प्रकाश चौटाला के सामने किसानॉ ने सरकार विरोधी नारे भी लगाए और भविष्य में बीजेपी पार्टी को वोट नहीं देने की अपील की। इस दौरान पर ओम प्रकाश चौटला ने  किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि बीजेपी सरकार ने समाज में भाई-चारे को तोड़ने का काम किया है । आज किसानों के साथ -साथ हर वर्ग इस सरकार से दुखी है ।यह सरकार पूंजीपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए कृषि कानूनों को किसानों पर थोपना चाहती है । ये काले कानून हैं जो किसान को बर्बाद कर देंगे। वो हमेशा से किसानों के साथ रहे हैं और रहेंगे। 

PunjabKesari

इस सरकार में किसानों को ना तो समय पर सिंचाई के लिए पानी मिल रहा है और ना ही खाद बीज की सुविधा है । सरकार देश की जनता को जाती और धर्म में में बांट रही है। उन्होंने कहा कि किसानों की सभी मांगों को मानने के बजाए सरकार किसानों को डराकर चुप करना चाहती है। तानाशाह सरकार ये नहीं जानती कि किसानों पर जबरन थोपे गए तीन काले कानूनों की वजह भारत के 65 करोड़ किसान आज भाजपा से नफरत करने लगे हैं और सरकार को सत्ता से बाहर धकेल कर ही किसानों को चैन मिलेगा।

PunjabKesari

अब की सरकार बनी तो हर पढ़े लिखे बच्चे को नौकरी दूंगा चाहे फांसी हो जाए
इस दौरान ओपी चौटाला ने कहा कि अब की बार अगर हरियाणा में उनकी सरकार बनती है तो वो हर पढ़े लिखे बच्चे को नौकरी देंगे, फिर चाहे इसके लिए उन्हें फांसी ही क्यों न दे दी जाए। उन्होंने कहा कि उन्होंने जिन्हें नौकरी दी थी, आज के समय में उनकी तरक्की हो गई लेकिन नौकरियां देने का जुर्म में वो आज भी सजा काट रहे थे।  

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Recommended News

static