रात के समय अधिक जलाई जा रही पराली, डीसी ने नाइट स्क्वायड टीमें की गठित, किसानों पर रखेंगी नजर

10/23/2020 5:58:38 PM

फतेहाबाद (रमेश): धान की पराली में आग लगाने के मामले कम नहीं हो रहे हैं, लगातार मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। किसान अब दिन की बजाए रात को पराली जला रहे हैं। ऐसे किसानों पर कार्रवाई करने के लिए फतेहाबाद प्रशासन ने नाइट स्क्वायड टीमें गठित की हैं। पुलिस के साथ ये टीमें पराली जलाने वाले किसनों पर नजर रखेंगी और कार्रवाई करेंगी। इसके अलावा गांवों में फसल अवशेष जालने की सूचना नहीं देने पर डीसी ने जिले की 26 ग्राम पंचायतों के सरपंचों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं। इसके अलावा 4 ग्राम सचिवों व कृषि विभाग के 15 कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं।

PunjabKesari, haryana

डीसी डॉ. नरहरि सिंह बांगड़ ने बताया सरपंचों व कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस में जवाब देना होगा कि उन्होंने प्रशासन को सूचना क्यों नहीं दी या वे मौके पर क्यों नहीं पहुंच पाए। यदि जिला प्रशासन उनके जवाब से संतुष्ट नहीं हुए तो संबंधित सरपंच या कर्मचारी को संस्पेंड करने की कार्रवाई की जाएगी। कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर के अनुसार अभी तक हरसेक के माध्यम से 236 फायर लोकेशन मिली हैं, जिनमें से सभी लोकेशन को वेरीफाई करके किसानों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है और 70 से अधिक एफईआआर अभी तक दर्ज हो चुकी हैं। 

वहीं डीसी ने कहा कि हम लगातार किसानों से अपील कर रहे है कि किसान पराली को आग ना लगाएं क्योंकि इससे पर्यावरण प्रदूषण के साथ-साथ कई गंभीर बीमारियों के फैलने का भी खतरा बना रहता है। इसके अलावा प्रशासन और कृषि विभाग मिलकर किसानों के लिए पराली प्रबंधन को लेकर सभी तरह के उपाय पर किसानों को जागरूक कर रहे हैं और किसानों को चाहिए कि वे सभी तरह के संयंत्रों का लाभ उठाकर पराली प्रबंधन करें।


vinod kumar

Related News