निजी इंजीनियरिंग कालेज के रजिस्ट्रार ने की धोखाधड़ी, छात्रा की शिकायत पर केस

7/21/2021 12:38:10 PM

कुरुक्षेत्र: राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित एक निजी इंजीनियरिंग कालेज के रजिस्ट्रार के खिलाफ धाेखाधड़ी का केस दर्ज किया है। मामले में शिकायतकर्ता छात्रा ने इस संबंध में सीएम विंडो पर शिकायत दी थी। सीएम विंडो की शिकायत पर डीएसपी लाडवा ने मामले की जांच की। जांच में रजिस्ट्रार को आरोपित पाया गया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

यमुनानगर के रादौर निवासी रीतू देवी ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वर्ष 2011 में उसने राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित इंजीनियरिंग कालेज से बी-टेक कंप्यूटर साइंस में दाखिला लिया था। बी-टे के चार सेमेस्टर में गणित विषय में उसकी कंपार्टमेंट आ गई थी। जिसका उसने 10 फरवरी 2020 में परीक्षा बारे फार्म भरा था। उसका यह मर्सी चांस था।

पूरक परिक्षा के लिए युनिवर्सिटी की 21 हजार 500 रुपये फीस कालेज के रजिस्ट्रार ने जमा फीस की रसीद वाटसअप से प्राप्त हुई थी। पूरक परीक्षा का रोल नंबर भी उसे मिल गया और पूरक परीक्षा देने के लिए कालेज प्रशासन ने ई-मेल आइडी भी उसे दी गई। एक अक्टूबर 2020 को उसे वाटसअप पर प्रश्न पत्र मिला था। उसने आनलाइन परीक्षा देकर उत्तर पुस्तिका को ई-मेल आईडी पर पीडीएफ फाइल के माध्यम से भेज दिया था। वह पूरक परीक्षा के बारे में पूरी तरह आश्वस्त थी कि वह पास होगी। परीक्षा देने के बाद वह लगातार कालेज प्रशासन व रजिस्टार के साथ रिजल्ट के बारे में संपर्क में थी लेकिन उसे परीक्षा का रिजल्ट नहीं मिला। उसे कालेज प्रशासन पर शक होने लगा कि कहीं ना कहीं कालेज प्रशासन व रजिस्ट्रार उसे गुमराह कर रहे हैं।

कुछ दिन पहले वह खुद कालेज में गई थी। वह कालेज के चेयरमैन से मिली थी, उसे बताया गया कि उनके पास परीक्षा का कोई रिकार्ड नहीं है। छात्रा ने अपने तौर जांच की तो पाया कि जो रसीद नंबर उसे जारी किया गया है वह एक अन्य लड़के के नाम पर दी गई रसीद पर भी वहीं था। छात्रा का आरोप है कि कालेज के चेयरमैन, रजिस्ट्रार व अन्य लोगों ने उसके साथ धोखाधड़ी की है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Recommended News

static