सीएम ने सहयोगी मंत्रियों के साथ देखी ‘स्वराज’ धारावाहिक की स्क्रीनिंग

punjabkesari.in Wednesday, Sep 28, 2022 - 12:17 AM (IST)

चंडीगढ़(चन्द्रशेखर धरणी): हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने प्रदेश की सभी संस्थाओं, स्कूलों, कॉलेजों व समाज के अन्य वर्गों को आजादी के अमृतकाल में आजादी के किस्सों से जुड़े अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित करने का आह्वान किया है।

उन्होंने कहा कि आजादी से जुड़े किस्से, कहानियां, चर्चा और इससे जुड़ी बातें होती रहनी चाहिए, ताकि हम आने वाली युवा पीढ़ी को बता सकें कि देश को आजादी कैसे मिली। मुख्यमंत्री मंगलवार को पंचकूला के इंद्रधनुष सभागार में आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत दूरदर्शन द्वारा आयोजित ‘स्वराज’ धारावाहिक की विशेष स्क्रीनिंग के अवसर पर बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के इतिहास में क्या छिपा है और क्या हमें ज्ञात है व क्या अभी भी अज्ञात है, इसे आम लोगों तक पहुंचाने के लिए दूरदर्शन द्वारा किया गया यह प्रयत्न सराहनीय है। उन्होंने कहा कि ऐसा माना जाता है कि हमारी आजादी की लड़ाई 1857 में शुरू हुई लेकिन इससे पूर्व भी अनेक ऐसे क्रांतिकारी और शहीद हुए, जिन्होंने इस देश की आजादी के लिए बहुत प्रयत्न किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के इस अमृत महोत्सव में यह प्रयास किया गया है कि वीर शहीदों के बारे में उपलब्ध जानकारियां को दूरदर्शन इकठ्ठा करने का बीड़ा उठाया और स्वराज नाम से धारावाहिक की श्रृंखला को बनाया। दूरदर्शन ने स्वराज के 75 एपिसोड बनाए, जिनमें से आज पहले और तीसरे एपिसोड की विशेष स्क्रीनिंग हुई। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वराज शब्द के कई मायने लिए गए। ऐसा माना जाता है कि शासन हमारा है तो हम स्वतंत्र हैं लेकिन स्वराज की गाथा हमारे देश के इतिहास से, हमारे देश की संस्कृति से, भाषा से, हमारे धर्म से शुरू होती है। यह बातें हमें नई पीढ़ी को बतानी पड़ेगी। यह समय की आवश्यकता है कि हम आजादी के 100 साल बाद तक भी युवा पीढ़ी को स्वराज का सही अर्थ बताए। 

इस मौके पर विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज, शिक्षा मंत्री कंवरपाल, परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा, शहरी स्थानीय निकाय मंत्री डॉ. कमल गुप्ता, महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा, सोनीपत के सांसद रमेश कौशक, राज्यसभा सांसद कृष्ण लाल पंवार, विधायक मोहन बड़ौली व अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। 

 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Ajay Kumar Sharma

Related News

Recommended News

static