कॉमनवेल्थ मैडलिस्ट पहलवान मोहित ग्रेवाल का भिवानी लौटने पर हुआ भव्य स्वागत

punjabkesari.in Sunday, Aug 14, 2022 - 05:21 PM (IST)

भिवानी (अशोक भारद्वाज) : कॉमनवेल्थ खेलों में 125 किलोग्राम भार वर्ग की फ्री स्टाइल कुश्ती स्पर्धा में ब्रांज मैडल लेकर लौटे मोहित ग्रेवाल का उनके पैतृक जिला भिवानी में भव्य स्वागत किया गया। 

इस मौके पर मोहित ग्रेवाल ने कहा कि वह आज अपनों के बीच पहुंचकर बड़ा गौरवांवित महसूस कर रहा है। उनके गुरू, परिवार व खेल प्रेमियों की दुआओं के चलते वह देश के लिए मैडल ला पाएं। उन्होंने कहा कि युवाओं को चाहिए कि अपनी शारीरिक गठन का सही प्रयोग कर खेलों की दिशा में लगाएं। हर युवा को खेलों को अपनाना चाहिए। मेहनत करने पर सफलता जरूर खिलाडिय़ों को मिलती है। 

वहीं भिवानी के विधायक घनश्याम सर्राफ, मोहित के कोच सुरेश ग्रेवाल, पिता जगबीर सिंह, नप चेयरपर्सन पति भवानी सिंह ने बताया कि हरियाणा प्रदेश में बेहतर खेल नीति के बल पर व अपनी कड़ी मेहनत के चलते खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मैडल लेकर आते है। मोहित ने भी कॉमनवेल्थ में ब्रांज मैडल जीतकर देश का नाम रोशन किया है। भिवानी वह क्षेत्र है, जहां बड़ी संख्या में खिलाड़ी विभिन्न खेलों में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मैडल लाते है। इसी परंपरा को मोहित ग्रेवाल ने आगे बढ़ाते हुए क्षेत्र का नाम रोशन किया है। बहुत कम उम्र में अधिक भार की कुश्ती में मैडल लाकर मोहित ने भविष्य में होने वाली प्रतियोगिताओं के लिए बेहतर प्रदर्शन का आगाज किया है। 

विधायक घनश्याम सर्राफ ने कहा कि 16 अगस्त को राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित कर प्रदेश के सभी कॉमनवेल्थ मैडलिस्ट को नगद पुरस्कार राशि देकर सम्मानित किया जाएगा तथा पदक लाने वाले हर खिलाड़ी को नौकरी देने का कार्य राज्य सरकार द्वारा किया जाएगा।

गौरलतब है कि भिवानी जिला के बामला गांव के 22 वर्षीय मोहित का गांव बामला मूलरूप से पहलवानों का गांव कहलाता है। इस गांव में अधिकतर पहलवान राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना चुके है। मोहित के पिता जगबीर सिंह हरियाणा पुलिस में डीएसपी है। वह भी अपने समय के नामी पहलवान रह चुके है। मोहित के चाचा विरेंद्र कुश्ती में ही भीम अवॉर्ड ले चुके है। मोहित का जन्म 20 दिसंबर 1999 को भिवानी जिला में हुआ था। स्नातक की पढ़ाई किए हुए मोहित ने कजाकिस्तान में 2022 में हुई वर्ल्ड रैकिंग सीरिज कुश्ती खेलों में ब्रांज मैडल लिया। इसी वर्ष अंडर-23 एशियन चैंपियनशिप में ब्रांज मैडल लिया। वर्ष 2021 में सीनियर नेशनल कुश्ती चैंपियनशिप में सिल्वर मैडल लिया। अंडर-23 सीनियर नेशनल चैंपियनशिप में वर्ष 2021 में गोल्ड मैडल लिया। 2016 में नेशनल स्कूल गेम में गोल्ड मैडल से मोहित ग्रेवाल ने कुश्ती की शुरूआत की थी। वर्ष 2016 व 2017 में जूनियन नेशनल चैंपियनशिप में ब्रांज मैडल लेने में भी मोहित सफल रहे, जिसके बाद 2019 व 2020 में पैर में चोट लगने के कारण उन्हें खेल से दूरी बनानी पड़ी, लेकिन जल्द वापिसी कर 2021 में सरबिया में हुई अंडर-23 सीनियर वल्र्ड चैंपियनशिप में पांचवा रैंक हासिल किया। मात्र 22 साल की उम्र मेें 125 किलोग्राम भार वर्ग के फ्री स्टाईल खिलाड़ी मोहित ग्रेवाल अपनी कम उम्र व हैवी वेट के कारण अधिक फूर्ति रखते हुए प्रतिद्वंदी खिलाडिय़ों पर भारी पड़ते रहे। उनकी यही प्रतिभा आने वाले अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भारत के लिए मैडल दिलाने वाली होगी। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Manisha rana

Related News

Recommended News

static