कैथल में पुलिस सुस्त, चोर चुस्त: जिले में लगातार बढ़ रहे अपराध के बावजूद पुलिस के हाथ खाली

punjabkesari.in Monday, May 09, 2022 - 03:04 PM (IST)

कैथल(जयपाल): हरियाणा के कैथल जिले में लगातार बढ़ रही चोरी की घटनाओं पर लगाम लगाने में पुलिस विफल साबित हो रही है। पुलिस प्रशासन के सुस्त रवैये के कारण बदमाशों के हौसले बुलंद हो गए हैं। हालात इस कदर खराब हो चुके हैं कि जिले के लोगों को हर समय बदमाशों का कहर सता रहा है। पूर्व संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने भी पुलिस की कार्यशैली पर निशाना साधते हुए कहा कि कैथल पुलिस इस समय पूरी तरह नकारा हो चुकी है। इसलिए जिले में इस तरह की वारदातें लगातार बढ़ रही हैं।

पिछले डेढ़ महीने की बात की जाए तो जिले में चोरी की ऐसी 6 बड़ी वारदातें सामने आ चुकी हैं, जिनमें पुलिस अब तक सिर्फ एक ही आरोपी को गिरफ्तार कर पाई है। इस आरोपी को पकड़ने में भी पुलिस को स्थानीय लोगों की मदद लेनी पड़ी थी। बड़ी चोरियों में बदमाशों ने कहीं धार्मिक स्थलों में तो कहीं आमजन के घर को निशाना बनाया है। घरों से जहां नगदी और ज्वेलरी चोरी की जाती है तो वही धार्मिक स्थानों से सोने तथा चांदी की ज्वेलरी तथा नगदी चुरा कर बदमाश रफूचक्कर हो जाते हैं।

सेवा सुरक्षा सहयोग का नारा देने वाली पुलिस से उठ रहा लोगों का विश्वास

कैथल जिले में पिछले डेढ़ महीने में कई ऐसी घटनाएं सामने आई हैं, जिसके बाद पुलिस के ऊपर सवाल खड़े हो रहे हैं। सेवा सुरक्षा सहयोग का नारा देने वाली कैथल पुलिस इन मामलों में आरोपियों को पकड़ने में बुरी तरह फेल साबित हुई है।

पिछले डेढ़ महीने में कहां-कहां हई चोरा की घटनाएं

1. कैथल जिले के पास लगते गांव कटवाड़ में एक धार्मिक डेरे से कुछ बदमाश पुलिस की वर्दी में आए और महंत व उनके शिष्य को बंधक बनाकर लाखों रुपए की चोरी कर रफूचक्कर हो गए। इस चोरी में अभी तक भी पुलिस के हाथ खाली हैं।

2. आस्था का केंद्र माने जाने वाले जिले के गांव बाबा लदान स्थित डेरा बाबा राजपुरी में भी चोरों ने चोरी की वारदात को अंजाम दिया। इस घटना में पुलिस की वर्दी पहनकर आए बदमाशों ने फिल्मी स्टाइल में वहां स्थित महंत और उनके शिष्य को बंधक बनाकर लाखों रुपयों समेत सोने की ज्वेलरी लेकर फरार हो गए। इस चोरी के बाद साधु समाज के सैकड़ों लोगों ने एसपी व डीसी से मिलकर आरोपियों को जल्दी पकड़ने की मांग की। इसके बाद भी पुलिस की तरफ से न तो महंत को सुरक्षा मुहैया कराई गई और ना ही आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इस मामले में भी पुलिस कुछ नहीं कर पाई।

3. चोरी की एक ऐसी ही वारदात चीका के गांव ढंढोत  की है, जहां पहली दो चोरियों की तरह ही बदमाशों ने पुलिस की वर्दी पहनकर एक डेरे में दस्तक दी। बदमाशों ने वहां के महंत और उनके चेलों को बंधक बनाकर लाखों रुपए की चोरी की घटना को बेखौफ अंजाम दिया। इतना ही नहीं शातिर चोर वहां लगे सीसीटीवी कैमरे की डीवीआर भी अपने साथ ले गए थे। हैरानी की बात है कि इस मामले में भी पुलिस अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है।

इसके अलावा भी जिले में कहीं जगह पर बदमाशों ने बड़ी चोरी की वारदातों को अंजाम दिया है। कहीं चोर बंदूक की नोक पर तो कहीं पुलिस की वर्दी पहनकर इन वारदातों को अंजाम दे गए। चोर इतने शातिर हो चुके हैं, कि जिले के हर कोने में महज कुछ ही समय मे ऐसी वारदातों को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं, लेकिन पुलिस को पता ही नहीं चलता।

लगातार उठ रहे पुलिस पर सवाल

पुलिस पीआरओ की तरफ से कभी नाइट डोमिनेशन तो कभी डे डोमिनेशन चलाने की विज्ञप्ति जारी की जाती है, लेकिन उसके बाद भी जिले में इतनी ऐसी वारदातें रूकने का नाम नहीं ले रही। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या जिला पुलिस समाचार पत्रों व टीवी चैनलों के माध्यम से सुर्खियां बटोरने में जुटी हुई है। आखिर पुलिस धरातल पर पुलिस आम नागरिक को सुरक्षा देने में फेलियर साबित क्यों हो रही है।

इस मामले में पूर्व संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने भी पुलिस की कार्यशैली पर निशाना साधते हुए कहा कि कैथल पुलिस इस समय पूरी तरह नकारा हो चुकी है। इसलिए जिले में इस तरह की वारदातें लगातार बढ़ रही हैं। कहीं चोरी-डकैती तो कहीं लूटपाट की वारदातें हो रही हैं। लोग हरदम डर के साए में जी रहे हैं, लेकिन पुलिस अभी तक किसी भी मामले को ट्रेस नहीं कर पा रही है

 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 

 

 

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vivek Rai

Related News

Recommended News

static