35 हजार लेकर गाड़ी में की भ्रूण लिंग जांच, 3 गिरफ्तार, 1 फरार

3/3/2021 8:43:05 AM

करनाल : जिले की स्वास्थ्य विभाग की टीम ने प्रसव पूर्व भ्रूण लिंग जांच करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है।  आरोपियों ने 35 हजार रुपए लेकर गाड़ी में भ्रूण लिंग जांच की। पहले से घात लगाकर बैठी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पुलिस के साथ मिलकर 3 आरोपियों को रंगे हाथ काबू कर लिया जबकी एक आरोपी फरार हो गया। पकड़े गए 2 व्यक्ति सूबे सिंह व जितेंद्र कुरुक्षेत्र जिले हैं। तीसरा आरोपी कृष्ण गोपाल अम्बाला से है। फरार आरोपी का नाम सुखदेव बताया जा रहा है। आरोपियों से 35 हजार में से 15500 रुपए भी बरामद कर लिए गए हैं। पुलिस ने एक स्विफ्ट व एक आई-20 सहित 2 गाडिय़ों को भी अपने कब्जे में लिया है। कुरुक्षेत्र पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

करनाल के पी.एन.डी.टी. और परिवार कल्याण के नोडल डा. नरेश करड़वाल की अगुवाई में मंगलवार को सदर थाना पुलिस की टीम कुरुक्षेत्र के लिए रवाना हुई। पहले कुरुक्षेत्र की स्वास्थ्य विभाग की टीम को साथ लिया। आरोपियों ने कुरुक्षेत्र जिले में पीपली चौक पर बुलाया। यहीं गाड़ी में नकली गर्भवती की जांच कर गर्भ में लड़का होने की बात कही। इसके तुरंत बाद दोपहर को करीब एक बजे आरोपियों को पकड़ लिया गया। 

नकली गर्भवती भेजकर फंसाया   
स्वास्थ्य विभाग की टीम ने इस बार भी गिरोह का पर्दाफाश करने के लिए पहले नकली गर्भवती तैयार की। इसके बाद इसे दलाल के पास भेजा। 35 हजार में सौदा तय होने पर आरोपियों की मांग पर पूरी रकम पहले सौंपी। इसके बाद आरोपी स्वास्थ्य विभाग के बिछाए जाल में फंसते चले गए। कुरुक्षेत्र पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पी.एन.डी.टी. एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर लिया है। पुलिस अब इस गिरोह में शामिल चौथे आरोपी की खोजबीन करेगी। दावा है कि जल्द ही इसे भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।     

गुप्त सूचना के बाद बनाया सॉलिड प्लान  
गुप्त सूचना के बाद विभाग ने बड़े ही सुनियोजित तरीके से आरोपियों को अपने जाल में फंसाया। इसके लिए सॉलिड प्लान तैयार किया। सिविल सर्जन डा. योगेश शर्मा ने बताया कि कुछ दिन पहले उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि गर्भवती महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्चे का अवैध रूप से लिंग जांच करवाने वाला एक गिरोह कुरुक्षेत्र व इसके आसपास के एरिया में सक्रिय है। सूचना के बाद रेड की प्लानिंग तैयार की गई। डिप्टी सी.एम.ओ. व पी.एन.डी.टी. और परिवार कल्याण के नोडल डा. नरेश करड़वाल, डा. संजीव चांदना व डा. स्वाति की टीम गठित की गई। इसके बाद नकली गर्भवती महिला को दलाल के पास भेजा गया। 

(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।)

 


Content Writer

Manisha rana

Related News