गीता जयंती समारोहः अश्लील आइटम के चलते सांग हुआ बंद, सुनाए भजन

12/8/2019 12:57:56 PM

जींद (ब्यूरो): जिला स्तरीय गीता जयंती समारोह में सांग शनिवार से बंद कर दिया गया। सांग बंद हुआ तो सांग के दौरान गैप आइटम के रूप में शुक्रवार को पेश किए गए अश्लील आइटम भी बंद हो गए। शनिवार को अश्लील आइटम की जगह भक्ति से जुड़े भजन समारोह स्थल पर सुनाए गए। डी.सी. डा.आदित्य दहिया और जिला प्रशासन द्वारा गीता जयंती समारोह से अश्लील आइटम को बंद करवाने के फैसले का समारोह देखने के लिए आए लोगों ने खुले दिल से स्वागत किया।

गीता जयंती समारोह में शुक्रवार को सांग के दौरान गैप आइटम के रूप में अश्लीलता का तड़का जमकर लगा था। इसमें कयामत बरपाने का काम अश्लील गानों और डांस के जरिए किया गया था। पंजाब केसरी ने इसे प्रमुखता से प्रकाशित किया तो शनिवार को डी.सी. डा.आदित्य दहिया ने गीता जयंती समारोह में अश्लीलता का तड़का लगाने वाले सांग को ही बंद करवा दिया। डी.सी. ने अधिकारियों से कहा कि गीता जयंती जैसे धार्मिक समारोह में फूहड़ और अश्लील डांस तथा गानों के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए।

इस समारोह से केवल गीता का कर्म करने और लोगों को धर्म का पालन करने का संदेश मिलना चाहिए। गीता जयंती समारोह का आयोजन ही इसलिए किया जाता है ताकि लोगों को कर्म करने की शिक्षा दी जाए। डी.सी. के आदेशों के बाद शनिवार को गीता जयंती समारोह में स्थानीय कलाकार भक्ति से जुड़े भजन सुनाते नजर आए। इसे देखकर समारोह में आए लोगों ने डी.सी. डा.आदित्य दहिया और प्रशासन की खुलकर तारीफ करते हुए कहा कि गीता जयंती जैसे समारोह में केवल भगवान श्रीकृष्ण के जीवन से जुड़े प्रसंग, झांकी, भजन आदि होने चाहिएं।

भगवान श्रीकृष्ण महान कर्मयोगी थे। उन्होंने महाभारत युद्ध के दौरान पांडवों को कर्म करने का ज्ञान दिया था और इसी ज्ञान को उन्होंने गीता में परोसा था। समारोह देखने आए बलवान सिंह, गजे सिंह, जयनारायण आदि ने कहा कि गीता जयंती समारोह स्थल पर शनिवार को भजन सुनना काफी अच्छा लगा।  


Isha

Related News