हरियाणा DGP से गृह मंत्री अनिल विज बेहद खफा, ये है नाराजगी की वजह

8/1/2020 4:37:54 PM

चंडीगढ़(धरणी): हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज डी जी पी मनोज यादव से आजकल खासे नाराज हैं।विज की नाराजगी का कारण है कि हरियाणा के विधायक पुलिस कर्मियों के तबादलों के लिए उन्हें नोट देते हैं ।वह डी जी पी को भेजते हैं मगर डी जी पी वह नोट्स इम्प्लीमेंट नही करते। अपितु विधायकों के नोट को कोई तरजीह नहीँ दी जाती।विधायक उनके पास बार बार चक्कर काटते हैं। अनिल विज चाहतें है कि चुने हुए जन प्रतिनिधियों के कामों को पूरी तवज्जो दी जाए।

हाल ही में पिछले हफ्ते जब अनिल विज अपने कार्यालय में हरियाणा सचिवालय में थे तो हरियाणा के गृह सचिव विजय वर्धन ने यह तनाव कम करने के लिए मध्यस्थ की भूमिका निभानी चाही। विज ने तब भी स्पष्ट कहा था कि उन्हें किसी से कोई नाराजगी नही हैं। विधायको के कामों को पूरा किया जाए, विधायको की अनदेखी मंजूर नही है। विज की नाराजगी  का कारण स्पष्ट होने पर भी डी जी पी कार्यलय द्वारा अनदेखी जारी रहने यह नाराजगी आने वाले दिनों में और बढ़ भी सकती है।

इससे पहले भी फरवरी 2020 में गृह मंत्री अनिल विज ने डीजीपी मनोज यादव की कार्यशैली पर असन्तोष जाहिर किया था।मंत्री विज ने डीजीपी को पत्र लिखकर गंभीरता से विभाग के फैसले लागू करने के लिए कहा है।उन्होंने पत्र में लिखा है कि जब मैंने गृह मंत्री पद संभाला था तब पुलिस मुख्यालय पर वरिष्ठ अधिकारियों की 19 नवंबर को बैठक की थी। आधुनिकरण एसिस्टम अपडेट करने और पुलिस मुलाजिमों के कल्याण से संबधित मुद्दों पर चर्चा हुई थी। डीजीपी ने 6 फरवरी को सूचित किया कि उन्होंने पुलिस कमिश्नरों एवं पुलिस उपायुक्तों व पुलिस अधीक्षकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस कर फैसला लागू करने के लिए कहा था। लेकिन एक भी फैसला लागू नहीं हुआ।

यह थे मुख्य मुद्दे 
संगठित अपराध के खिलाफ कार्रवाई, पार्किंग एरिया की रेगुलेशन, पुलिस कर्मचारियों का कल्याण, जघन्य अपराध के खिलाफ हर जिले में स्पेशल डीटेकिव यूनिट स्थापित करना, अमूल्य जिंदगियों को बचाने के लिए सुरक्षा उपाय, गैर पुलिस कार्यों पर मुलाजिमों को लगाना, एंटी नॉरकोटिक्स ब्यूरो का गठन व एक बैठक में एनडीपीएस पर एसटका गठन करना। 

मार्च 2020 में भी अनिल विज के जनता दरबार में आने वाली शिकायतों पर कार्रवाई न होने से विज इन नाराजगी जाहिर की थी। विज की नाराजगी उस समय देखने को मिली जब एक शिकायतकर्ता ने उन्हें बताया कि वो पहले भी शिकायत दे चुके हैं लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। जिसके बाद शिकायतकर्ता की ये बात सुनते ही विज ने तुरंत DGP हरियाणा को फोन किया और उनके द्वारा भेजी जाने वाली शिकायतों की एक्शन टेकन रिपोर्ट डी.जी.पी  से मांगी थी, वहीं विज ने कहा था कि वो उनके दरबार में आने वाली हर शिकायत का तय समय में निवारण चाहते हैं।

 


Isha

Related News