किसान आंदोलन के मुख्य स्टेज के पास घोड़ों के साथ हर समय मौजूद रहते हैं निहंग सिख: सरकारी सूत्र

10/15/2021 10:38:29 PM

चंडीगढ़ (धरणी): कुण्डली किसान धरनास्थल पर निहंग सिखों के संबंध में सरकारी सूत्रों का कहना है कि तीन कृषि कानूनों के विरोध में जीटी रोड कुण्डली सिंघु बॉर्डर जिला सोनीपत पर 27 नवंबर 2020 से पंजाब व हरियाणा के किसान धरना पर बैठे हुए हैं। इस धरना पर 3500-3600 की हाजरी है, जिनमें 180-190 महिलाएं, 400-500 युवा, 200-225 निहंग सिख अपने पारम्परिक वेशभूषा के साथ मौजूद हैं। निंहग सिखों की धरनास्थल पर शुरू से ही 650-700 की हाजरी रही है और इस समय 200-225 निहंग सिख अपने 55 घोड़ों के साथ हर समय अपने पारम्परिक वेशभूषा के साथ धरनास्थल की मुख्य स्टेज के आस-पास मौजूद रहते हैं। इनके द्वारा रात के समय धरना व मुख्य स्टेज की पहरेदारी की जाती है।

निहंग सिखों द्वारा लोगों में चिंता फैलाने के लिए अपने पारम्परिक हथियारों के साथ घोड़ो पर करतब करते रहते हैं ताकि आस-पास के गांवो में इनके प्रति लोगों में तनाव का माहौल बने। निहंग सिखों द्वारा मुख्य स्टेज के पीछे टेंट लगाकर अस्थाई तौर पर गुरूग्रंथ साहिब स्थापित किया हुआ है। जहां पर पंजाब के किसानों व संयुक्त किसान मोर्चा के पदाधिकारियों द्वारा माथा टेक कर अरदास की जाती है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार 26 जनवरी 2021 को निहाल बाबा राजा राज सिंह के नेतृत्व में 40 घोड़ों पर निहंग सिखों द्वारा दिल्ली के लालकिले पर पहुंचकर उत्पात मचाया गया था व कई लोगों को इनके द्वारा घायल किया गया था। इस दौरान इनके एक घोड़े की भी मौत हो गई थी। 2 अप्रैल 2021 को शेखर पुत्र रविंदर उम्र 21 वर्ष निवासी कुंडली की प्याऊ मनियारी कुण्डली को भी निहंग सरदारों द्वारा उसके बाएं हाथ पर तलवार मार दी थी। इस संदर्भ में थाना कुण्डली में 12 अप्रैल 2021 को मुकदमा नंबर 216 दर्ज हुआ जिसमें धारा 323, 324, 341, 307, 506 भा.दं.सं. आदि लगाई गई। इस मामले में आरोपी मनप्रीत पुत्र मनोहर सिंह वासी गांव सुल्तानपिंड जिला अमृतसर पंजाब गिरफ्तार होकर जेल में बंद है।

समय-समय पर निहंग संयुक्त किसान मोर्चा की मुख्य स्टेज से आह्वान करते रहते हैं। दिनांक 5 अप्रैल 2021 निहंग बाबा अमनदीप सिंह ने मुख्य स्टेज से कहा था कि किसान संगठनों से जुड़े हुए देश-विदेश के किसानों और समाजसेवी संगठनों को अपील करता हूं कि इस आंदोलन के साथ कंधे से कंधा मिलाकर साथ दें। दिनांक 17 अप्रैल 2021 निहंग बाबा कृपाल सिंह द्वारा मुख्य स्टेज से कहा गया कि निहंग फौज संयुक्त किसान मोर्चा के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी है। हमारा यहां बैठने का कोई फायदा नहीं हैं। जब तक दिल्ली का एक्सपोर्ट का काम-धंधा व दिल्ली जाने वाले लिंक रोड बंद नहीं किए जाते, तब तक केंद्रीय सरकार हमारी कोई बात नहीं मानेगी।

जानकारियों के अनुसार दिनांक 25 अप्रैल 2021 निहंग बाबाओं द्वारा धरनास्थल पर दिल्ली के पुलिस अधिकारियों को कहा गया था कि हरियाणा की तरफ जो आपके कंटेनर रखे हैं, उनको आप यहां से हटा लो। हम आपको एक-दो दिन का समय देते हैं, नहीं तो फिर हम इसे अपने तरीके से हटाएंगे। 26 अगस्त 2021 को निहंगों द्वारा प्रदीप पुत्र जयकिशन वासी प्याऊ मनियारी थाना कुण्डली के साथ गांव नाथूपुर के पास झगड़ा किया था, जिसमें दो निहंग सिख प्रताप सिंह पुत्र हरमेश सिंह जट सिख व हरि सिंह पुत्र हरमेश जट सिख वासियान अरईंया थाना बाबा बकाला जिला अमृतसर पंजाब के खिलाफ थाना कुंडली 107/151 सीआरपीसी की कार्यवाही की गई थी। 

सभी निहंग सिखों की स्थाई रिहायश धरनास्थल की मुख्य स्टेज के पास है। ये सभी अपनी पारम्परिक वेशभूषा व हथियारों के साथ रहते हैं। संयुक्त किसान मोर्चा के किसी भी जत्थेदार की इतनी हिम्मत नहीं है कि वे निहगों द्वारा किए जा रहे किसी कार्य में रोका-टोकी कर सके। जानकारियों के अनुसार गत रात्रि करीब 1 बजे मृतक लखबीर सिंह के साथ भी निहंग सिख द्वारा मुख्य स्टेज के पास बिछाए गए मैटों पर इस घटना को अंजाम दिया जाना ज्ञात हुआ है। हरियाणा सरकार व आला पुलिस अधिकारियों के संज्ञान में बॉर्डर पर बैठे किसानों व निहंगों की हर गतिविधियों पर निगाहें हैं। मगर हाल ही में हुई जघन्य हत्या के कारण पुलिस प्रशासन अब एक्शन प्लान बना कर सरकार की तरफ अनुमति के लिए देख रहा है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Shivam

Related News

Recommended News

static