1500 करोड़ के हांसी-महम-रोहतक रेलवे लाइन निर्माण प्रोजैक्ट के सैंपल फेल

8/1/2020 3:46:52 PM

हिसार : हांसी से रोहतक वाया महम रेलवे लाइन प्रोजैक्ट में बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। 1500 करोड़ के इस प्रोजैक्ट में निर्माण सामाग्री तय मानक के अनुसार नहीं पाई गई है। रेलवे की विजिलैंस टीम ने इस बारे में 25 सितम्बर 2019 को अलग-अलग कार्यों के सैंपल लिए थे, जिनकी जांच में 4 प्वाइंट पर निर्माण तय मानकों के अनुसार नहीं पाया गया है। इस बारे में रेलवे के डिप्टी चीफ इंजीनियर कंस्ट्रक्शन की तरफ से निर्माण कार्य करने वाली गावड़ कंस्ट्रक्शन लिमिटेड कंपनी को नोटिस जारी किया गया है । जांच में प्लेटफार्म पर लगे आर.सी.सी.पैनल, रेलवे ब्रिज पर आर.सी.सी. वर्क, महम स्टेशन के पास पाथ-वे पर आर.सी.सी. वर्क की गुणवत्ता ठीक नहीं पाई गई है। इसके अलावा स्टाफ क्वार्टरों में ऱखी प्लास्टिक की टंकियों की क्वालिटी भी रेलवे के अनुसार नहीं मिली है। सभी सैंपलों की नैब की तरफ से अप्रुवड लैब से जांच करवाई गई। 

महम स्टेशन के पाथ-वे व पानी की टंकियों में कमी
इसके अलावा विजिलैंस की तरफ से महम स्टेशन के पास से आर.सी.सी. से बनाए जा रहे पाथ-वे का सैंपल लिया गया जो जांच में निम्न पाया गया। यहां पर आर.सी.सी.की गुणवत्ता 23- 53 पाई गई जो 34 एम.पी.ए. होनी चाहिए थी। इसके अलावा स्टाफ क्वार्टर में लगाए गए पानी के प्लास्टिक टैंक का वजन भी कम पाया गया है। 500 लीटर पानी के टैंक का वजन 9 किलो व 1 हजार लीटर पानी के टैंक का वजन 21 किलो मिला है दो रेलवे के तय नियमों के अनुसार कम है। बाकी सैंपल पर जहां कंस्ट्रक्शन के डिप्टी के चीफ इंजीनियर ने तय शर्तों के अनुसार दोबारा से सैंपल लेकर जांच रिपोर्ट के आधार पर फैसला लिए जाने की बात कही है, वहीं पानी की टंकियों को तुरंत प्रभाव से बदलने का आदेश जारी किया है। 

साख बचाने में जुटे दोनों पक्ष, मामले पर साधी चुप्पी
इतने बड़े प्रोजैक्ट के निर्माण कार्यों के की गुणवत्ता कम पाए जाने और प्रोजैक्ट के सैंपल फेल होना निर्माण कंपनी और रेलवे के लिए भी बड़ी मामला है। इस खामी के उजागर होने से दोनों पक्षों की साख दांव पर लगना तय है। दोनों पक्ष इस मसले पर चुप्पी साधे हुए है और कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है। पंजाब केसरी की तऱफ से इस मामले में पक्ष जानने के लिए नार्दन रेलवे दिल्ली मुख्यालय व कंस्ट्रक्शन करने वाली गावड़ कंस्ट्रक्शन कंपनी से भी संपर्क किया लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया। 

इन प्वाइंट पर पाई है खामियां, दोबारा होंगे टैस्ट
रेलवे की तरफ से जारी पत्र के अनुसार कंपनी को हांसी महम रोहतक ब्रॉड-गेज लाइन निर्माण कार्य का प्रोजैक्ट दिया गया है। इसमें कंपनी को ब्रिज, प्लेटफार्म, बिल्डिंग, यार्ड का निर्माण, रेलवे लाइन बिछाते हुए पत्थर डालना और लाइन के तटबंध बनाने थे। रेलवे की विजीलैंस टीम ने जांच की तो कई प्वाइंट पर निर्माण तय शर्तों के अनुसार नहीं पाया गया। इनमें एक प्लेटफार्म पर लगे आर.सी.सी. के फैसिंग पैनल का वजन कम पाया गया है। ये पैनल कम से कम 375 किलोग्राम का होना चाहिए था, लेकिन कंपनी द्वारा लगाए गए पैनल का वजन सिर्फ 261 किलोग्राम ही पाया गया है। इसके अलावा महम ब्रिज के पास से लिए गए सैंपल के अनुसार वहां पर किए गए काम नें आर.सी.सी. वर्क की गुणवत्ता कम मिली है। यहां पर आर.सी.सी. मैटेरियल की गुणवत्ता सिर्फ 26.70 मिली है तो 29.75 होनी चाहिए थी। 


Edited By

Manisha rana

Related News