दिल्ली में किसानों के हंगामे पर बोले संजय- वे नेता कहां है जो ट्रैक्टर मार्च की जिम्मेदारी उठा रहे थ

punjabkesari.in Tuesday, Jan 26, 2021 - 04:09 PM (IST)

चंडीगढ़ (धरणी): करनाल से भाजपा के सांसद संजय भाटिया ने दिल्ली में हुए बवाल की कड़े शब्दों में निंदा की। उन्होंने कहा कि संविधान की मान्यता के पर्व पर देश की राजधानी के दृश्य लोकतंत्र की गरिमा को चोट पहुंचाने वाले हैं। याद रखिए देश का सम्मान है तो आप हैं। हिंसा लोकतंत्र की जड़ों में दीमक के समान है। जो लोग मर्यादा के बाहर जा रहे हैं वे अपने आंदोलन व अपनी मांग की वैधता व संघर्ष को खत्म कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब वह नेता कहां है जो इस ट्रैक्टर मार्च की जिम्मेदारी उठा रहे थे। 

संजय भाटिया ने कहा कि ट्रैक्टर मार्च का रूट भी गायब, जिम्मेदारी लेने वाले, किसान संगठनों के नेता भी गायब, कौन कर रहा है किसानों के नाम हिंसा, जिम्मेवार कौन है। कानूनों में सुधार की गारंटी व डेढ़ साल तक रोकने के बाद भी गणतंत्र दिवस पर अपनी ही राजधानी को कौन दहला रहा है और किस मकसद से। उन्होंने कहा कि लाल किला देश के सम्मान का प्रतीक है और इस पर देश के प्रधानमंत्री को ही झंडा फहराने का अधिकार है। आज तिरंगे के अतिरिक्त धार्मिक झंडा फहराने की घटना देश के हर नागरिक को शर्मिन्दा करने वाली है।

पुलिस की शर्तें भी तोड़ी, खुद के तय किए कायदे भी धरे रह गए
उन्होंने कहा कि पुलिस ने शर्तों के साथ किसानों को ट्रैक्टर परेड निकालने की इजाजत दी थी। किसानों ने खुद भी कुछ नियम तय किए थे, लेकिन ट्रैक्टर मार्च आगे बढ़ा तो प्रदर्शनकारियों ने सभी नियम-कायदे ताक पर रख दिए गए। गौरतलब है कि सीमाओं पर जमे किसानों ने आज ट्रैक्टर रैली निकाली। इस दौरान पुलिस और किसानों के बीच जमकर झड़प हुई। कई प्रदर्शनकारी किसान जगह-जगह बैरिकेडिंग तोड़ते हुए दिल्ली के अंदर घुस गए और तोडफ़ोड़ की। प्रदर्शनकारियों के हंगामे और पुलिस को दौड़ाने पर किसान नेताओं ने भी पल्ला झाड़ लिया है। भारतीय किसान यूनियन के राकेश टिकैत ने कहा कि उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। सवाल यही है कि पिछले दो महीने से शांतिपूर्ण आंदोलन कर रहे किसानों को आखिर किसने भड़काया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

vinod kumar

Related News

Recommended News

static