पिपली लाठीचार्ज को लेकर सत्ता में चल रहे दो गठबंधन के दल अलग-अलग किनारे पर

9/19/2020 9:41:05 PM

चंडीगढ़ (धरणी): बीजेपी के एक कदवार मंत्री कंवरपाल गुज्जर ने कहा है की पीपली में किसानों पर कोई लाठी चार्ज नहीं हुआ है, इसे केवल कांग्रेस ही कह रही है। इससे पहले गृह मंत्री अनिल विज भी कह चुकें हैं कि कोई लाठीचार्ज नहीं हुआ। जेजीपी की राय इस पर अलग है। 

जेजीपी के सीनियर नेता दिग्विजय चौटाला कहतें है की लाठीचार्ज में हुए घायलों से वह मिलें हैं। लाठीचार्ज करने वाले सिविल कौन थे इसकी शिनाख्त होनी चाहिए व जांच होनी चाहि। डिप्टी सीएम भी इस मामले में पहले निंदा कर चुकें हैं और सीएम को मिल रोष जाहिर कर जांच की बात कर चुकें हैं। पिपली लाठीचार्ज को लेकर सत्ता में चल रहे दो गठबंधन के दल अलग-अलग किनारे पर खड़े नजर आ रहें हैं। 

इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय चौटाला ने उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से त्यागपत्र की मांग करने पर पलटवार किया है। उन्होंने कहा  की कहा की यदि दुष्यंत सत्ता छोड़ेंगे, तो हुड्डा किसानों को लूटेगा। सरकार के साथ मिलकर किसानों की लड़ाई दुष्यंत लड़ेंगे। दिग्विजय चौटाला ने कहा की किसानों पर लाठीचार्ज की घटना की जांच होगी। लाठीचार्ज करने वाले सिविल में लोग कौन थे की जांच जरूरी है।किसान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बातों पर विश्वास करें।

दिग्विजय चौटाला ने कहा की कांग्रेस व हुड्डा ने किसानों का कितना भला वाड्रा के साथ मिल कर किया है, यह सब को पता है। कुरुक्षेत्र में वह पुलिस की लाठी से घायल किसानों व नथा राम को मिल कर आएं हैं, उनको मल्टीपल फ्रेक्चर हुए हैं। मैंने किसानों से माफी मांगी है। लाठी किसने चलाई का पता लगना चाहिए। आपसी भरोसे में सरकार चलती है। डिप्टी सीएम चौटाला व सीएम मनोहरलाल में विश्वाश अडिग है। 

शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने किसानों पर हुए पिपली में लाठीचार्ज को सीरे से नाकारते हुए कहा कि कुछ भी ऐसा पिपली में नहीं हुआ। उल्टा इस काम को कांग्रेस शुरू से ही हवा देती आ रही है, जबकि इस मामले में शैलजा ने तो अपना संतुलन ही खो दिया है और सुरजेवाला की जुबान पर भी कोई लगाम नहीं है। 

गुज्जर ने कहा की किसानों का आंदोलन अब नेताओं की जुबानी जंग का मैदान बन गया है। रोजाना कोई न कोई नेता अपने अपने तर्क मीडिया के सामने रख रहा है। किसानों का यह आंदोलन कांग्रेस की ही देन है, यहां तक कि पिपली में भी जो कुछ हुआ वह सब कांग्रेस का ही देन है और जिसकी अध्यादेश की बात शैलजा कर रही है, क्या वह कानून की धज्जियां नहीं उड़ा रही हैं। 

क्या वह लोगों को बरगलाने का काम नहीं कर रही है, जबकि सुरजेवाला की तो जुबान पर अपनी ही लगाम नहीं है, हालांकि उन्होंने किसानों के बिल को लेकर कहा कि कुछ दिनों के बाद जब मंडिया खुल जाएंगी उसके बाद सब कुछ साफ हो ही जाएगा कि इस बिल का क्या नुकसान है। शिक्षा मंत्री ने इस अध्यादेश को लेकर कहा कि यह किसानों के हित का है, लेकिन कांग्रेस के लोग इसे किसानों को समझने नहीं दे रहे। 


vinod kumar

Related News