दो महीने तक कोमा में रहा मोहित, फिर उठ खड़ा हुआ और गाड़ दिए सफलता के झंडे(VIDEO)

1/20/2020 4:32:40 PM

फरीदाबाद (अनिल राठी): कहते हैं अगर हिम्मत हो तो इंसान आसमान से उंची उड़ान भर सकता है, फिर चाहे कितनी भी कठिनाईयां क्यों न सहनी पड़ें। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है हरियाणा के जिला फरीदाबाद के रहने वाले मोहित ने। मोहित ने बीते साल नवंबर में हुई सीए की परीक्षा में पूरे जिले में दूसरा स्थान हासिल किया है। मोहित की कठिनाईयों की बात करें तो, पहले उनके सिर से पिता का साया उठ गया, जिनका सपना था कि उनका बेटा सीए बने। वहीं मोहित को एक गंभीर बीमारी से जूझना पड़ा, जिस कारण वह दो महीने तक कोमा में पड़ा रहा। इन सबके बावजूद मोहित ने हार नहीं मानी और अपने पिता का सपना पूरा किया।

मोहित ददुवंशी फरीदाबाद के सेक्टर 2 में रहते हैं। उन्होंने बताया कि उनके पिता शिवराज उन्हें सीए बनाना चाहते थे और उसके लिए 12वीं पास करने के बाद ही 2012 में सीपीटी के लिए फार्म लेकर आए। 2013 में 58 प्रतिशत नंबर के साथ सीए में कामयाबी हासिल कर ली, लेकिन 2014 में मोहित जीबीएस नामक एक वायरस की चपेट में आ गया और पूरा शरीर लकवे से ग्रसित हो गया। नतीजा मोहित पूरी तरह से बेड पर और उसका जीवन दूसरों पर आश्रित हो गया।

PunjabKesari, mohit

यही नहीं कुछ समय बाद पिता का भी निधन हो गया। परिवार के लिए यह दोहरा झटका था। अपनी बीमारी से 2 साल तक संघर्ष करने के बाद मोहित उठ खड़ा हुआ और फिर नए सिरे से सीए बनने की तैयारी शुरू की। मोहित की इस लगन के साथ उसकी मां दयावती और भाई सुरेंद्र ने पूरा साथ दिया और मोहित ने करीब डेढ़ साल तक कोचिंग ली। नवंबर 2019 में सीए की परीक्षा दी, जिसका परिणाम बृहस्पतिवार को ही आया है। इस परीक्षा में मोहित ने न केवल फरीदाबाद बल्कि पलवल जिला में दूसरा स्थान हासिल कर मुकाम को छुआ है।

PunjabKesari, Haryana

मोहित के भाई सुरेन्द्र ने मोहित की बीमारी के बारे में बताया कि वह जिस बीमारी की चपेट में आया था, उससे शरीर के खून में मौजूद प्लाज्मा खत्म होने लगा था, जिस कारण मोहित के शरीर के  लगभग सभी अंग काम करना बंद कर दिए थे। उन्होंने बताया कि इस कारण मोहित करीब डेढ़-दो महीने कोमा में भी रहा। लेेकिन बीमारी से उबरने के बाद मोहित फिर उठ खड़ा और सीए की परीक्षा दी अब उसकी कामयाबी हमें बहुत खुशी हुई है।


Shivam

Related News