किसान आंदोलन दौरान दर्ज सभी केस होंगे वापिस, मृतक किसानों के परिवारवालों को दिए जाएंगे 5 लाख रूपए: सूत्र

punjabkesari.in Wednesday, Dec 08, 2021 - 05:24 PM (IST)

सोनीपत: दिल्ली बॉर्डर पर 377 दिन से चल रहे किसान आंदोलन के खत्म होने का ऐलान कभी भी हो सकता है। सूत्रों के अनुसार हरियाणा के मोर्चे और संयुक्त किसान मोर्चे में कुछ फैसलों को लेकर मतभेद चल रहा था। हरियाणा के किसान नेताओं ने आज अलग बैठक की थी जिसमें उन्होंने फैसला लिया था कि किसानों में पर दर्ज हुए सभी केस खत्म हो, और साथ ही हर मृतक किसान के परिवारवालों को 5 लाख की सहायता राशि दी जाएगी, जिस पर संयुक्त मोर्चे ने भी सहमति जताई है, और पंजाब के किसान नेताओं ने भी सहमति जताई है। इसके बाद हरियाणा के किसान नेता अब संयुक्त किसान मोर्चा की होने वाली अहम मीटिंग में शामिल हो गए है।

all-the-cases-registered-during-the-farmers-movement-will-be-returned

पंजाब के 32 में से अधिकांश किसान संगठन घर वापसी के लिए तैयार हैं। उनकी कृषि कानून वापसी की मुख्य मांग पूरी हो चुकी है। हालांकि, किसानों पर दर्ज केस को लेकर वह हरियाणा के साथ हैं। पंजाब में किसानों पर केस दर्ज नहीं किए गए, लेकिन हरियाणा में हजारों किसानों पर केस दर्ज हैं। हरियाणा के अलावा उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़ के अलावा दूसरे राज्यों और रेलवे के भी केस हैं। किसानों का कहना है कि अगर ऐसे ही घर आ गए तो आंदोलन वापसी के बाद केस भुगतने पड़ेंगे। पहले भी हरियाणा के जाट आंदोलन और मध्यप्रदेश के मंदसौर गोलीकांड में ऐसा हो चुका है।

all-the-cases-registered-during-the-farmers-movement-will-be-returned

 
(हरियाणा की खबरें टेलीग्राम पर भी, बस यहां क्लिक करें या फिर टेलीग्राम पर Punjab Kesari Haryana सर्च करें।) 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Isha

Related News

Recommended News

static