मोदी ने मनमोहन से मांगी थी MSP की गारंटी, आज खुद पीएम होकर नहीं मान रहे अपनी बात: यादव

punjabkesari.in Friday, Sep 25, 2020 - 04:42 PM (IST)

फतेहाबाद (रमेश भट्ट): फतेहाबाद में अनाजमंडी में किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए बंद को विभिन्न राजनैतिक और गैर राजनैतिक तथा कर्मचारी संगठनों ने अपना समर्थन दिया। फतेहाबाद के रतिया में स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव किसानों को अपना समर्थन देने पहुंचे। किसानों को संबोधित करते हुए उन्होंने सरकार द्वारा लाए गए बिल को कंपनी राज में बदलने वाला बिल बताया। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए सरकार को घेरा।

सरकार से तीखे सवाल करते हुए योगेन्द्र यादव कहा कि अगर सरकार यह कहती है कि यह तीनों बिल किसान हितैषी हैं तो किसी भी किसान संगठन ने आज तक ऐसे बिल की मांग क्यूं नहीं की? किसी भी संगठन को उन्होंने साथ क्यूं नहीं लिया, क्यूं रात के अंधेरे में चोर दरवाजे से बिल को पास करवाया या, क्यूं कोई भी किसान संगठन के साथ नहीं खड़ा। यहां तक कि उनका घटक दल रहे अकाली भी उनसे इस मुद्दे पर अलग हो गए। आरएसएस के किसान संगठन भी उनके इस फैसले के साथ नजर नहीं आ रहे।

योंगेद्र यादव ने कहा कि उन्हें सरकार द्वारा लाए गए तीनों बिल मंजूर हैं, किसानों को मंजूर हैं, अगर मोदी साहब एमएसपी को कानूनी गारंटी देने की लिख कर दें तो। उन्होंने कहा वर्ष 2011 में जब चीफ मिनिस्टर की कमेटी बनाई गई थी, उस समय नरेंद्र मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री और कमेटी के चेयरमेन थे जब उन्होंने एमएसपी की गारंटी देने वाला कानून बनाने की सिफारिश तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से की थी, तो आज मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी क्यूं नहीं मान रहे। इस दौरान प्रदर्शन कारियों से संजय गांधी चौक पर आकर सरकार के विरूद्ध जबरदस्त नारेबाजी करते हुए रोड जाम भी किया।

फतेहाबाद में किसान संगठनों द्वारा बुलाए गए भारत बंद का जिले में मिला-जुला असर देखने को मिला। रतिया में इसका व्यापक असर था तो फतेहाबाद में आंशिक असर ही देखा गया। आंदोलन में बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी शामिल हुए। जिले में विभिन्न स्थानों पर किसान और व्यापारियों से जुड़े संगठनों के लोगों ने जोरदार प्रदर्शन किया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Shivam

Related News

Recommended News

static